क्या आप ज्योतिष में विश्वास करते हैं, और क्यों या क्यों नहीं? - Letsdiskuss
img
Download LetsDiskuss App

It's Free

LOGO
गेलरी
प्रश्न पूछे

shweta rajput

blogger | पोस्ट किया 18 Jun, 2020 |

क्या आप ज्योतिष में विश्वास करते हैं, और क्यों या क्यों नहीं?

Awni rai

student | पोस्ट किया 22 Jun, 2020

जी हा हम ज्योतिष शास्त्र मे विश्वास रखते है क्योकी जो आज कल विज्ञान हमे बता रहा है कि ईस दिन क्या होगा कब सुर्य ग्रहण  लगेगा कब चन्द्रग्रहण लगेगा वो हमारे वेद और ज्योतिष भी बताते है वो भी एकदम सही

shweta rajput

blogger | पोस्ट किया 22 Jun, 2020

ज्योतिष मेरे अनुसार सही है और इसे सबसे पुराना विज्ञान कहा जाता है।


“सूर्य का व्यास पृथ्वी के 108 गुना है।


पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की दूरी चंद्रमा के व्यास का 108 गुना है।


पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी सूर्य के व्यास का 108 गुना है। ”


अब वैदिक ज्योतिष के अनुसार नवग्रह (9 ग्रह) हैं। "नव" का अर्थ है 9 और "ग्रह" का अर्थ है ग्रह।


अब वे 9 ग्रह हैं:


  • सूर्य (सूर्य)
  • मून (चंद्रा) 
  • मंगल ग्रह (मंगल) 
  • पारा (बुद्ध) 
  • बृहस्पति (गुरु) 
  • वीनस (शुक्र) 
  • शनि (शनि) 
  • राहु और केतु। 

नोट: राहु और केतु आकाश में बिंदु हैं जहां सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी प्रतिच्छेद करते हैं। राहु चंद्रमा का आरोही नोड है जिसे उत्तर नोड के रूप में जाना जाता है और केतु चंद्रमा का अवरोही नोड है जिसे दक्षिण नोड के रूप में जाना जाता है। तो राहु और केतु ग्रह नहीं है, बल्कि यह एक बिंदु है। (सूचना स्रोत: इंटरनेट)


  • 12 राशियाँ (वैदिक ज्योतिष में राशी के नाम से जानी जाती हैं)। यदि आप 12 और 9 को गुणा करते हैं तो आपको 108 (12 × 9 = 108) मिलते हैं।
  • 27 "नक्षत्र" (तारे) हैं। अब 12 राशियों को 4 तत्वों अर्थात् अग्नि, पृथ्वी, जल और वायु में विभाजित किया गया है। 
  • अब अगर आप 108 को 4 से भाग देते हैं तो आपको 27 (108/4 = 27) मिलते हैं। 
  • अब फिर से यदि आप 27 को 4 से गुणा करते हैं तो आपको 108 (27 × 4 = 108) मिलता है। 
  • अब 12 राशियों को 4 से विभाजित करने पर आपको 3 (12/4 = 3) मिलते हैं। 
  • अब राशि चक्रों को फिर से 3 प्रकारों में विभाजित किया गया है अर्थात् कार्डिनल, फिक्स्ड और म्यूटेबल। 
  • अब यदि आप 9 और 3 को गुणा करते हैं तो आपको 27 (9 × 3 = 27) मिलते हैं। 
  • अब अगर आप 108 को 12 से भाग देते हैं तो आपको 9 (108/12 = 9) मिलते हैं। 
  • यदि आप 27 को 3 से विभाजित करते हैं तो आपको 9 (27/3 = 9) मिलते हैं। 

मैं देख रहा हूं कि ज्योतिष में कुछ अर्थ है। संख्याओं का एक पैटर्न है। ऐसे कई लोग हैं जो कहेंगे कि ज्योतिष "अ-अर्थ" और "छद्म विज्ञान" है, लेकिन ज्योतिष अब तक अप्रसन्न नहीं है।


नोट: पश्चिमी या उष्णकटिबंधीय ज्योतिष में आप देख सकते हैं कि नेप्च्यून, यूरेनस और प्लूटो जैसे ग्रहों को महत्व दिया जाता है। लेकिन वैदिक या नक्षत्र ज्योतिष में इसे महत्व नहीं दिया जाता है क्योंकि इन 3 ग्रहों को बाहरी अंतरिक्ष में झूठ कहा जाता है और इस प्रकार इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है जब वे सूर्य के चारों ओर परिक्रमा कर रहे होते हैं, तो मनुष्य पर।