पढ़ाई से जी चुराने वाले बच्चे को कैसे सुधारें? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Rinki Pandey

| पोस्ट किया | शिक्षा


पढ़ाई से जी चुराने वाले बच्चे को कैसे सुधारें?


0
0




| पोस्ट किया


पढ़ाई से जी चुराने वाले बच्चों को कैसे सुधारें?

Letsdiskuss

दोस्तों इस पोस्ट का जवाब आपको बेहतर तरीके से हम दे रहे हैं आखिरकार अगर बच्चे पढ़ाई से जी चुराते हैं तो उनका भविष्य अंधकार में हो सकता है इसलिए पैरस लोग परेशान रहे थे कि उनका बच्चा पढ़ाई नहीं करता है असल में समस्या क्या है उसके बारे में हम यहां पर आपको जानकारी देने वाले हैं इस आर्टिकल को आप पूरा पढ़ें-

 

बच्चे का अगर बेसिक कमजोर है तो उसका पढ़ाई में मन नहीं लगता है। अगर वह आठवीं सातवीं कक्षा में है और उसकी बेसिक पढ़ाई कमजोर है जैसे उसे गुड़ा भाग करना नहीं आता है या हिंदी इंग्लिश से और लिख नहीं पाता है तो उसकी परफॉर्मेंस भी आगे चलकर अच्छी नहीं होती है। ऐसे बालक पिछड़े बालक कहलाते हैं जो पढ़ाई में अपने बेसिको बुनियादी शिक्षा को ग्रहण नहीं कर पाते हैं इस कारण से बड़ी कक्षाओं पढ़ाई करने में रुचि नहीं दिखाते हैं। इसका समाधान यह है कि आप अपने बच्चे की बेसिक यानी फंडामेंटल पढ़ाई को सुधारे। जब बच्चा भी ऐसी चीजों को अच्छी तरीके जानने लगेगा तो वह पढ़ने में भी रुचि दिखाएगा और उसका मन पढ़ाई में लगने लगेगा।

 

किसी विषय में उसका मन नहीं लगता है

 

अगर किसी विषय में जैसे मैथ या सोशल स्टडी या किसी और विषय में वहां बच्चा पढ़ाई में मन नहीं लगाता है तो इसका मतलब यह हुआ कि वह विषय उसे समझ में नहीं आ रहा है। इसके लिए आपको उसके टीचर से बात करना चाहिए और सरल सहज ढंग से उसे उसी टॉपिक को बताना चाहिए। जब बच्चा रुचि लेने लगता है तो उसका पढ़ाई में मन लगने लगता है।

 

अंग्रेजी माध्यम में पढ़ने पर जी नहीं लगना

 

आजकल की पढ़ाई अंग्रेजी माध्यम में होती है लोग सोचते के अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ाने से उनका बच्चा तेज हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं क्योंकि घर में अंग्रेजी का माहौल नहीं होता है और वह अपने शुरुआती विषयों को अंग्रेजी में अच्छे से समझ नहीं पाता है इसलिए उसे पढ़ाई अच्छी नहीं लगती है। यह समस्या छोटी क्लास के बच्चों में अधिक होती है इसलिए नई शिक्षा नीति के अंतर्गत कहा गया है कि बच्चों के मदर टंग में ही पढ़ाई कराया जाए।

 

इसलिए आपको ध्यान रखना कि आपका बच्चा अंग्रेजी माध्यम में पड़ रहा है तो उसे जो चीजें समझ में नहीं आ रही उन्हें आप उनकी भाषा में समझाएं इससे उनकी पढ़ाई में रुचि बढ़ेगी और कक्षा में परफॉर्मेंस भी अच्छा होगा।

 

अगर बच्चा पढ़ाई में ध्यान नहीं देता तो उसका कारण  यह भी हो सकता है,  ज्यादा देर तक टीवी देखता मोबाइल देखता है। इसके अलावा वह घूमता रहता और खेल में ध्यान देता है।‌ इस कारण से उसका पढ़ाई में मन नहीं लगता है। उसे समझाएं और बताएं पढ़ाई बहुत महत्वपूर्ण होती है। अगर फिर भी ना माने तो उसे उन सभी सुविधाओं को देना बंद कर दे जिससे कि बच्चे को मालूम होगा कि अगर माता-पिता के अनुसार नहीं चलेंगे तो हमें सुविधाएं भी नहीं मिलेगी।

 

बच्चे के पढ़ने लिखने और टीवी देखने आदि का टाइम टेबल बना और उसका सख्ती से पालन करवाएं देखिए कुछ महीने में ही आपका बच्चा पढ़ाई में भी ध्यान देने लगेगा और वह अनुशासन को मानने वाला बन जाएगा।


1
0

Picture of the author