byjus कंपनी को घाटा लगने का क्या कारण है चार कारण जाने - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Rinki Pandey

| पोस्ट किया |


byjus कंपनी को घाटा लगने का क्या कारण है चार कारण जाने


0
0




| पोस्ट किया


Byju’s ऑनलाइन कोचिंग की दुनिया में बड़ा नाम कमाया है। लेकिन इस समय है, इस ऑनलाइन कोचिंग कंपनी को घाटा लग गया है। Byju’s रिवेन्यू यानी कमाई कम होने का कारण क्या है इसके बारे में चार पॉइंट रखने जा रहे हैं, जिसे आपने नहीं सुना होगा।

Letsdiskuss

आपको बता दें कि बाय जूस Byju’s कंपनी को इस बार  2021 के फाइनेंसियल ईयर मे 4,588 करोड़ रुपए का घाटा लगा है।

 

Byju’s जैसी कंपनी को घाटा लगना आश्चर्यजनक बात है।  कंपनी के द्वारा यह भी बताया जा रहा है कि एक रुपए कमाने के चक्कर में ₹2 खर्च किए गए इसलिए घाटा लगा लेकिन इसके पीछे और भी एनालिसिस हैं, आइए जानें उनके बारे में

 

पहला कारण

 

कोरोना महामारी में ऑफलाइन शिक्षण संस्थाएं बंद हो गई थी। इन 2 साल में ऑनलाइन एजुकेशन की तरफ लोग मजबूरी में गए। लेकिन जैसे ही लॉकडाउन हटा और करोना  संकट टल गया, वैसे लोग ऑफलाइन कोचिंग की तरफ भागने लगे। इस कारण से byju's जो ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर था,  उसे घाटा लगना शुरू हो गया। 

byju's को अपना बिजनेस ऑफलाइन कोचिंग में भी इन्वेस्ट करना चाहिए और इस पर यह काम कर भी रही है।

 

दूसरा कारण

 

byju's का ऑनलाइन कोर्स बहुत महंगा है। इधर महंगाई जबरदस्त बढ़ने के कारण लोगों ने महंगे Byju’s से दूरी बनाना शुरू कर दिया। क्योंकि मध्यमवर्गीय फैमिली इतना अधिक पैसा खर्च नहीं कर सकती है। Byju’s को अपने कोर्स को बहुत सस्ता करना चाहिए। क्योंकि बहुत से ऑनलाइन है यूट्यूब कोचिंग बहुत सस्ते या फ्री में पढ़ाते हैं।

 

तीसरा कारण

 

Byju’s अकैडमी कोचिंग के अलावा कॉम्पिटेटिव कोचिंग पर भी ध्यान देती है।‌ इधर इंटरमीडिएट के परीक्षा पैटर्न में भी बहुत बदलाव आया बहुविकल्पी प्रश्न यानी एमसीक्यू क्वेश्चन पूछे जाने लगे जिससे स्कूलों में एकेडमिक पढ़ाई बहुत अच्छी होने लगी है।‌ इस कारण से भी लोग ऑनलाइन और कोचिंग की तरफ हो आप जाना सही नहीं समझते क्योंकि परीक्षा पैटर्न एकेडमिक लेवल का वाह इंटरमीडिएट से ही शुरू हो गया है इसलिए कोचिंग संस्थाओं पर इसका असर भी पड़ा है। जितने भी इंटरमीडिएट के बाद प्रवेश परीक्षा या नौकरी वाली परीक्षा है,  उसमें एम सी क्यू क्वेश्चन पूछे जाते हैं और अब एकेडमी में भी ढेर सारे MCQ पूछे जा रहे हैं जिस कारण से competitive examination की तैयारी एकेडमिक लेवल में ही अब अच्छे से हो जा रही है इसलिए कोचिंग की आवश्यकता मांग भी कम हुई जिससे Byju’s के रेवेन्यू में भी असर पड़ा है।

 

चौथा महत्वपूर्ण कारण

 

हिंदी माध्यम में भी पढ़ाई का सबसे बड़ा scope है। Byju’s माध्यम के छात्रों को ऑनलाइन कैच नहीं कर पा रही जबकि खान सर जैसे लोग बेहतरीन तरीके से कम कीमत में अच्छी कोचिंग उपलब्ध करा रहे हैं, वहां पर Byju’s फेल हो जा रहा है। इसके अलावा Byju’s में रिक्रूटमेंट प्रोसेस भी कमियां है। टीचिंग प्रोफेशन में अनुभव का बहुत बड़ा महत्व था और वह उम्र के साथ ही आती है। यहां रिक्रूटमेंट में अधिक उम्र वालों को वरीयता नहीं दी जाती है। 

अगर उपरोक्त सभी कारणों पर सुधार कर ले तो बाय जस बहुत आगे तक जा सकता है।

 

इंटरनेट और लोगों से बातचीत पर आधारित सर्वे के अनुसार यह बातें सामने निकल कर आई है।


0
0

Picture of the author