जानें क्या था 31 अगस्त का इतिहास ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Choreographer---Dance-Academy | पोस्ट किया |


जानें क्या था 31 अगस्त का इतिहास ?


0
0




Media specialist | पोस्ट किया


ज्ञान को सही समय से समझने के लिए बहुत जरुरी है आप किसी भी बात का इतिहास जरूर जानें, जैसे आज ही का वो दिन है जब पंजाब के गुजरावाला में एक एक साहित्यकार अमृता प्रीतम का जन्म हुआ था |


Letsdiskuss

courtesy -Samachar Jagat

1919: अमेरिकन कम्युनिस्ट पार्टी का गठन हुआ.
1920: अमेरिकी शहर डेट्रायट में रेडियो पर पहली बार समाचार प्रसारित किया गया।
1956: भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने राज्य पुनर्गठन विधेयक को मंजूरी दी।
1957: मलेशिया ने ब्रिटेन से स्वतंत्रता प्राप्त कर ली.
1964: कैलिफोर्निया आधिकारिक रूप से अमेरिका का सबसे अधिक जनसंख्या वाला प्रांत बना।




1968: भारत में टू-स्टेज राउंडिंग रॉकेट रोहिणी-एमएसवी 1 का सफल प्रक्षेपण किया गया।
1983: भारत के उपग्रह इनसेट-1 बी को अमेरिका के अंतरिक्ष शटल चैलेंजर से प्रसारित किया गया।
1991: उज्बेकिस्तान और किर्गिस्तान ने सोवियत संघ से अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की।
1997: ब्रिटेन की राजकुमारी और राजकुमार चार्ल्स की पूर्व पत्नी डायना की पेरिस में कार दुर्घटना में मृत्यु।
1998: उत्तरी कोरिया ने जापान पर बैलिस्टिक मिसाइल दागा।




2002: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ़ ने अपना नामांकन पत्र वापस लिया।
2004: इतालवी जनरल गिदो पामेरी को भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षक समूह का एक साल के लिए प्रधान सैन्य पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया।
2010: अमेरिका ने उत्तर कोरिया के गुप्त परमाणु कार्यक्रम से जुड़े संगठनों तथा व्यक्तियों की सम्पत्ति जब्त करने तथा हथियारों के व्यापार पर रोक लगाने के लिये नए प्रतिबंध लगाए।
2010: भारतीय संसद ने परमाणु संयंत्र में किसी दुर्घटना की स्थिति में शीघ्र मुआवजा सुनिश्चित करने वाला परमाणु जन दायित्व विधेयक पारित किया।
1919: प्रसिद्ध कवयित्री, उपन्यासकार और निबंधकार अमृता प्रीतम का जन्म 31 अगस्त हुआ था। 




1962: प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ पल्लम राजू का जन्म 31 अगस्त हुआ था।
1963: बंगाली फ़िल्मों के प्रसिद्ध निर्देशक, लेखक और अभिनेता ऋतुपर्णो घोष का जन्म 31 अगस्त हुआ था।
2003: विजयशंकर मल्ल का निधन हुआ और इन्होंने भारतेन्दु काल के गद्य को “हंसमुख गद्य” की संज्ञा दी थी। 
पद्मश्री से सम्मानित प्रख्यात उर्दू कवि कश्मीरी लाल ज़ाकिर का निधन 31 अगस्त 2016 को हुआ था।



0
0

Picture of the author