lumphi वायरस क्या है इसके बचाव के क्या उपाय हैं? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Rinki Pandey

| पोस्ट किया |


lumphi वायरस क्या है इसके बचाव के क्या उपाय हैं?


6
0




| पोस्ट किया


Lumpy Skin Virus कैसे फैलता है? इस वायरस के फैलने का क्या कारण है? इस वायरस से बचाव क्या है? पशुओं में इस वायरस का क्या प्रभाव है? ऐसे अनेक प्रश्न के जवाब जहां पर हम आपको बताने जा रहे हैं। आप तो जानते कि वायरस इंसान के साथ ही साथ पशुओं के लिए भी बहुत ही हानिकारक होता है। कोरोनावायरस के कहर ने पूरी दुनिया को 2 साल तक लॉकडाउन में रख दिया था। वहीं मलेरिया के वायरस के बारे में आप जानते ही हैं, इसी तरह से डेंगू के वायरस और जुखाम का साधारण वायरस भी हमें परेशान करता है। वास्तव में हम वायरस की दुनिया में घिरे हुए हैं और इंसान इन वायरस की चपेट में खुद को बचाने के लिए तरह-तरह के मेडिकल उपाय करता है।

Letsdiskuss

इस समय भारत के कई राज्यों में पशुओं को नुकसान पहुंचाने वाला Lumpy Virus का प्रकोप फैला हुआ है। दोस्तों अफसोस की बात है इस वायरस के कारण अनेक पशु अपनी जान गवां रहे हैं।

Symptoms and Remedy in Hindi आपको बता दें कि लंबी वायरस का प्रभाव पशु के शरीर की चमड़ी पर पड़ता है। गाय और भैंस की चमड़ी पर बड़ी-बड़ी गाठें निकल जाती हैं, जिस कारण से दर्द से छटपटा के पशु की मौत हो जाती है।

Lumpy Virus Symptoms and Remedy: इस वायरस के शुरुआती लक्षण दिखाई नहीं देता है लेकिन जब जानवरों के शरीर पर छोटे-छोटे गांठ निकलने लगते हैं तब पता चलता है कि पशु Lumpy Virus से ग्रसित है।

आपको जानकर यह खुशी होगी कि Lumpy Virus से निपटने के लिए पशु विभाग ने टीका बना लिया है। लंबी वायरस का एंटी डोज कारगर है और अब पशुओं पर इसकी दोष लगाई जा रही था कि Lumpy Virus से बचाव पशुओं का हो पाए।


लंपी वायरस (What is lumpy virus)

लंपी साल 2019 में पहली बार भारत में दिखाई दिया। लंबी वायरस से त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाला वायरस है। यह रोग जानवरों में फैलता है और उनकी स्किन को गांठदार या ढेलेदार बना देता है। दोस्तों medical language मे इसको LSDV कहा जाता है। दोस्तों इस वायरस को कैप्रीपॉक्स भी कहा जाता है।‌ यह मवेशियों पर प्रभाव डालता है। इस वायरस का वाहक यानी कैरियर मच्छर होता है। सरल शब्दों में कहें तो मच्छर के काटने से मवेशियों में यह वायरस पहुंच जाता है।

लक्षण (Lumpy Virus Symptoms)

लंबी वायरस के लक्षण निम्नलिखित है-

  • पशु को बुखार आना।
  • वजन में कमी।
  • आंखों से पानी टपकना।
  • लार बहना।
  • शरीर पर दाने निकलना।
  • दूध कम देना।
  • भूख नहीं लगाना है।
  • इसके साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता धीरे-धीरे कम होती चली जाती है।

बचाव (Home Remedy and Treatment)

दोस्तों लंपी वायरस से बचाव के तरीके भी हैं।

जो मवेशी लंपी वायरस के चपेट में हैं, उन्हें दूसरे मवेशियों से अलग रखना चाहिए।



जहां मवेशी है, उस जगह और आसपास की जगहों पर कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए ताकि मक्खी मच्छर यू आदि जो वायरस को फैलाने के लिए सहायक है वह मर जाएं।

लंपी वायरस के चपेट के कारण मरे हुए जानवरों के शव को खुला नहीं छोड़ना चाहिए बल्कि उसे अंदर गड्ढे में दबा देना चाहिए।

लंबी वायरस से बचाव के लिए भारत सरकार की और शेष का एंटीबायोटिक टीका भी बन गया है जिसे हर पशु को लगवाना चाहिए।

लंपी वायरस की दवा

Lumphi virus के प्रभाव का लक्षण जैसे ही पता चले वैसे ही तुरंत यह चिकित्सा अपनाना चाहिए। यहां पर कुछ दवाओं के बारे में बताया जा रहा है, पशु चिकित्सक की सलाह से इन दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है।

लंपी रोग के लिए इकलौता यह दवा है।

होमिओनेस्ट मैरीगोल्ड ऐल एस डी 25 किट (Homionest Marigold LSD 25 Kit) है।‌ इस रोग में यह कारगर है।

इसके अलावा होम्योपैथिक दवा भी इस रोग में कारगर है। जिससे किसी भी तरह का साइड इफेक्ट नहीं होता है और पशुओं इस रोग में रोकथाम लगाने के लिए कारगर है। इन दवाओं को खिलाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले ले।

दोस्तों अगर यह जानकारी आपके लिए उपयोगी रही है और आप इस तरह की और भी जानकारी हमसे पाना चाहते हैं तो कृपया हमारे इस पोस्ट को जरूर लाइक शेयर करें हम आपको ढेरों सरल भाषा में इस तरह की जानकारी देते रहेंगे। धन्यवाद ‌


3
0

| पोस्ट किया


Lumpy वायरस यह देश के कई राज्यों के पशुओं में फैलने वाला वायरस होता है और यह पशुओ के मांसपेशियों में फैलने वाला वायरस है। इस वायरस के कारण पशुओं के स्किन में गांठे नजर आने लगती है। यह बहुत तेजी से फैलने वाला वायरस होता है। यह वायरस यूपी-बिहार राजस्थान मध्य प्रदेश के पशुओं में वायरस पाए जाते है जिसके कारण से हजारों पशुओं की मौत भी हो रही है।

बचाव= पूरे क्षेत्रों में कीटाणु नाशक दवाइयों का छिड़काव करना चाहिए।

पशुओं की मृत्यु हो जाने के बाद उनके शव को खुला नहीं छोड़ना चाहिए।

गाय संक्रमित हो जाने के बाद उन्हें दूसरे पशुओं के साथ नहीं रखना चाहिए.।Letsdiskuss


3
0

| पोस्ट किया


क्या आप जानते हैं कि आखिर यह लंपी वायरस क्या है और इसके बचाव के क्या उपाय हो सकते हैं? तो सबसे पहले हम आपको इस चीज की जानकारी देते हैं कि लंपी वायरस क्या होता है?

लंपी वायरस एक स्किन डिसीज है जो केप्रिपॉक्स वायरस के कारण होती है। यह बीमारी गाय और भैंस में देखने को मिलती है यह बीमारी देखने में गाय और भैंस के शरीर पर गांठे दिखाई पड़ती है। इस बीमारी की वजह से कई मवेशियों ने अपनी जान गवा चुकी हैं।

लंपी वायरस के बचाव के उपाय

प्रभावित मवेशियों को तुरंत आइसोलेटेड कर देना चाहिए ताकि उनकी वजह से दूसरा जानवर उन की चपेट में ना आए।

पशुओं को रोग से बचाने के लिए टीका लगवाए।

मरे हुए पशुओं को जला देना चाहिए।Letsdiskuss


3
0

Preetipatelpreetipatel1050@gmail.com | पोस्ट किया


लंपी वायरस एक ऐसी बीमारी है जो गाय और भैंस को होती है यह एक जानलेवा बीमारी है जो एक दूसरे के संपर्क में आने से फैलती है। यह बीमारी मच्छरों कीड़े, मकोड़े, गंदगी से फैलती है। जिसको कम करने के लिए कुछ उपाय निम्न हैं -

  • अगर कोई पशु इस बीमारी से संक्रमित हो जाता है तो उसे अन्य पशुओं से दूर रखना चाहिए।
  • जहां आप पशुओं को रखते हैं तो वह स्थान साफ सुथरा होना चाहिये। क्योंकि, गंदगी होने के कारण ही मच्छर उत्पन्न होते हैं जिनके काटने से यह रोग आसानी से फैलता है।
  • अगर किसी पशु की संक्रमित रोग से मृत्यु हो जाती है तो उस पशु को खुले में ना छोड़े बल्कि गड्ढे में उसको दफना दे।
  • जहां आप अपने पशुओं को रखते हैं तो वहां समय-समय पर कीटनाशक दवाइयों का भी छिड़काव करना चाहिए ताकि संक्रमित रोग ना फैले।
  • Letsdiskuss


3
0

');