जन्माष्टमी के मौके पर कैसे करे अपनी बिटिया का राधा - रानी वाला श्रृंगार ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Content Coordinator | पोस्ट किया |


जन्माष्टमी के मौके पर कैसे करे अपनी बिटिया का राधा - रानी वाला श्रृंगार ?


0
0




Media specialist | पोस्ट किया


देशभर में जन्माष्टमी का त्योहार 23 और 24 अगस्त को मनाया जाएगा, इसके लिए लोग कई तरह की तैयारियां कर रहे हैं, और इस अवसर पर कई स्कूलों और मंदिरों में बच्चों को भगवान् श्री कृष्ण और राधा बना कर झाकियां निकाली जाती है |

Letsdiskuss courtesy-Preschool journey

आपको बता दें भगवान कृष्णा का जन्म भाद्रपद मास के कष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को आधी रात को हुआ था. इसी दिन को जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है, तो चलिए आज हम आपको बताते है आप अपनी बेटी को राधा की तरह कैसे सजाएं |
सबसे पहले आप इस बात का ध्यान रखें की बेटी के चेहरे पर अधिक मेकअप न लगाएं क्योंकि इनमें कैमिकल का उपयोग होता है, जो उसकी नाजुक त्वचा के लिए ठीक नहीं. बेटी के चेहरे पर मॉइश्चराइजिंग क्रीम लगाने के बाद हल्का फाउंडेशन या टेल्कम पाउडर लगाकर बेस तैयार करें |
उसके बाद आप हल्का सा ब्लश यूज करें और लिप्स्टिक और काजल लगाएं |
लहंगा
 आप उसके लिए लाल, पीले या हरे रंग का चटख लहंगा खरीदें, इस पर थ्रेड की कढ़ाई और मिरर वर्क हो तो और भी बेहतर है, वह आपकी बेटी को राधा जैसा लुक देगा |
गजरा
बेटी के बाल बड़े हैं तो उसके बालों में लगाने के लिए आपको सिर्फ गजरा खरीदने की जरूरत है. नहीं तो आप आर्टिफिशल बन भी साथ में खरीदें. फिर लहंगे और दुपट्टे के साथ जूड़ा बनाकर उसमें गजरा अवश्य लगाएं, क्योंकि राधा के श्रृंगार में गज़रा बहुत प्रिय था |
मुकुट या माथा पट्टी
राधा रानी के लिए आप मुकट खरीदें. नहीं तो माथा पट्टी खरीदें. अगर आप ये नहीं लेना चाहती तो सिर्फ टीका भी खरीद सकती हैं. इनमें से कोई एक चीज जरूर खरीदें. नहीं तो बेटी का लुक अधूरा रहेगा.
बाजूबंद
बिटिया को राधा रानी के रूप में सजाने के लिए बाजूबंद का उपयोग अवश्य करें. आप चाहें तो बाजूबंद के स्थान पर बांधने के लिए भी गजरा उपयोग कर सकती हैं.
चूड़ियां
बेटी के हाथ की रंग बिरंगी चूड़िया खरीदें. आप चाहें तो छोटी बच्चियों के लिए आनेवाला प्लास्टिक का चूड़ा भी खरीद सकती हैं. छोटी बच्चियों को कांच की चूड़ी पहनाने में उन्हें चोट लगने का डर रहता है.



0
0

Picture of the author