व्युत्पन्न (derivative ) बाजार की विशेषताएं क्या हैं? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Komal Verma

Media specialist | पोस्ट किया |


व्युत्पन्न (derivative ) बाजार की विशेषताएं क्या हैं?


0
0




Math and Account teacher,Ramanuj Study center in Account,Delhi | पोस्ट किया


डेरिवेटिव या व्युत्पन्न एक अनुबंध की तरह एक पक्ष के लिए जोखिम को संभालने के लिए एक साधन के रूप में उपयोग किया जाता है | यह दूसरी पार्टी के लिए ज्यादा रिटर्न की संभावना प्रदान करता है। जोखिम को कम करने के लिए डेरिवेटिव बनाए गए हैं जैसे स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटी और इंडेक्स, विदेशी मुद्रा. ब्याज दरों में परिवर्तन और कुछ डेरिवेटिव्स के उदाहरण हैं |


इसे एक उदाहरण से समझते हैं जैसे एक कंपनी खाद्य पदार्थों का उत्पादन करती और आटा और अन्य वस्तुएं खरीदती है, जिनका मूल्य बढ़ता गिरता रहता है | ऐसे में कंपनी डेरिवेटिव्स मार्केट की इसी विशेषता का फायदा उठाकर गेहूं को अनुबंध के आधार पर एक निश्चित मूल्य पर खरीद कर सकती है |


डेरिवेटिव ट्रेडिंग खराब नहीं हैं | कई कंपनियों के लिए तो यह जोखिम भरे बाजारों में मुनाफा सुनिश्चित करने में मदद करता है | वहीं यह निवेशकों को कम जोखिम में भी ट्रेडिंग करने का मौका प्रदान करता है |


डेरिवेटिव मार्केट की विशेषता है कि वह निवेशक को निराश नहीं होने देता | सही अनुमान और मार्किट की गहरी समझ डेरीवेटिव बाज़ार में निवेशक को अच्छे लाभ कमाने में सक्षम बनाता है | डेरिवेटिव्स की सहायता से निवेश द्वारा बाज़ार के उतर चढ़ाव के होने पर भी निवेशक लाभ सुनिचित कर सकता है |


Letsdiskuss


0
0

Picture of the author