कोरोना से लड़ने के लिए आयुष मंत्रालय ने क्या सलाह दी ? - Letsdiskuss
img
Download LetsDiskuss App

It's Free

LOGO
गेलरी
प्रश्न पूछे

अज्ञात

पोस्ट किया 02 Apr, 2020 |

कोरोना से लड़ने के लिए आयुष मंत्रालय ने क्या सलाह दी ?

shweta rajput

blogger | पोस्ट किया 02 Apr, 2020

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सुझाव दिया कि आयुष दवा निर्माता कोरोनोवायरस प्रकोप के बाद ऐसी वस्तुओं की उच्च मांग को ध्यान में रखते हुए आवश्यक वस्तुओं जैसे कि सैनिटाइटरों का उत्पादन करने के लिए अपने संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं। प्रधान मंत्री ने यह भी कहा कि असंतुष्ट दावों का मुकाबला करने की आवश्यकता है कि आयुष के पास बीमारी का इलाज है।
आयुर्वेद, यूनानी, सिद्धि और होम्योपैथी दवाओं की आयुष प्रणाली के तहत आते हैं जिसके लिए एक अलग केंद्रीय मंत्रालय है। मोदी ने ये टिप्पणी आयुष चिकित्सकों के साथ वीडियो के जरिए बातचीत करते हुए की। उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के एक बयान में कहा, "योग एट होम" को बढ़ावा देने और इस कठिन चरण के दौरान शरीर को मजबूत बनाने के लिए आयुष मंत्रालय के प्रयासों की प्रशंसा की।

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री ने आयुष वैज्ञानिकों के आईसीयूआर, सीएसआईआर और अन्य अनुसंधान संगठनों को साक्ष्य-आधारित अनुसंधान के लिए एक साथ आना चाहिए, इस बीमारी के लिए आयुष के काउंटरिंग और फैक्ट-चेकिंग के असंतुलित दावों के महत्व को रेखांकित किया।" मोदी ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो सरकार घातक वायरस के प्रसार का मुकाबला करने के लिए आयुष प्रणाली का अभ्यास करने वाले निजी डॉक्टरों से मदद लेगी। उन्होंने आयुष चिकित्सकों से टेलीमेडिसिन के मंच का उपयोग जनता तक पहुंचाने और महामारी से लड़ने के लिए निरंतर जागरूकता उत्पन्न करने का भी आग्रह किया।
प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया भर में भारत की पारंपरिक दवाओं और चिकित्सा पद्धतियों के बारे में जागरूकता पैदा करना महत्वपूर्ण है। बयान में कहा गया है कि उन्होंने लोगों की सेवा के लिए लगातार प्रयास करने के लिए आयुष चिकित्सकों को धन्यवाद दिया और सीओवीआईडी ​​-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला।