अल्जाइमर क्या है और इससे बचने क्या तरीके है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Rinki Singh

Chef at Hotel Radisson | पोस्ट किया |


अल्जाइमर क्या है और इससे बचने क्या तरीके है ?


1
0




Content Coordinator | पोस्ट किया


अल्‍जाइमर रोग के शुरुआती दौर में नयी और हाल ही की स्मृतिओं को दोबारा याद करना कठिन होता है। रोगी के लिए किसी नयी जानकारी को ग्रहण करना और याद रख पाना मुश्किल हो जाता है। अगर मैं आपको साधारण शब्दों में समझाऊ तो इसका मतलब है अल्जाइमर एक ऐसी बीमारी है जिसमें व्यक्ति की याददाश्त कमजोर हो जाती है और सोचने समझने की शक्ति कम हो जाती है|
Letsdiskusscourtesy-NewsState.com


एक व्यक्ति जो कि अल्‍जाइमर रोग की प्रारम्भिक अवस्था में है, अपने भोजन का ध्यान रखने, पैसा संभालने, दरवाजों को ताला लगाना या दवाई लेना याद रखने में असमर्थ हो सकता है। ऐसे स्त्री या पुरुष दिशा पहचान करने की क्षमता भी खो सकते हैं या गाड़ी चलाते या चलते समय, यहां तक कि परिचित पड़ोस में भी रास्ता भूल सकते हैं। इसलिए याद रखें अगर कभी भी आपको ऐसा लगता है कि आपके आस पास कोई व्यक्ति कुछ कुछ बातें भूलने लगा है तो आप बिना किसी देरी के नज़दीकी डॉक्टर से सलाह ले |  

अल्‍जाइमर के संकेत

- चिड़चिड़ापन

- तनाव

- शांत हो जाना
अल्‍जाइमर से बचाव
अल्‍जा़इमर रोग में शारीरिक और मानसिक रूप से सक्रिय रहने और उच्च शिक्षा स्तर से यह रोग विकसित होने का खतरा कम हो जाता है इसके अलावा नियमित व्यायाम करने और मैडीटेरेनियन आहार (मछली, जैतून का तेल, प्रचुर मात्र में सब्जियां) लेने से लक्षणों को टाला जा सकता है और इस रोग के विकास को धीमा किया जा सकता है।
संभावित अ‍वधि
अल्‍जाइमर रोग लाइलाज है। एक बार निदान हो जाने के बाद, मानसिक कार्यों का सामान्यतः 3 से 20 वर्षों में (औसतन 10 वर्ष) पतन हो जाता है और अंत में रोगी की म्रत्यु हो जाती है।


पूर्वानुमान
अल्‍जाइमर रोग के उपचार के लिए कोई विशेष दवा नहीं है पर "कोलिन्सटीरेज" रोधक और "मीमेंटाइन" दैनिक कार्य करने की क्षमता को सुधार सकते हैं, व्यवहार समस्याओं को कम कर सकते हैं और एक स्वास्थ्य केंद्र की आवश्यकता को टाल सकते हैं।


अल्‍जाइमर से बचाव के फायदेमंद योग -

वैसे  तो योगा आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद है लेकिन क्या आप जानते हैं अपनी याददाश्त दुरुस्त रखने के लिए भी योग का सहारा लिया जा सकता है। यहाँ तक की आप योग से इस समस्यां को जड़ से मिटा सकते हो |


- प्राणायाम और ध्यान
प्राणायाम शरीर को स्वस्थ रखने के साथ आपके मस्तिष्क के लिए सर्वश्रेष्ठ दवा है। किसी समतल स्थान पर दरी या कंबल बिछाकर सुखासन की अवस्था में बैठकर नियमित रुप से रोज सुबह अनुलोम-विलोम करें और उसके बाद 10 मिनट तक ध्यान करें।


- उष्ट्रासन
उष्ट्रासन से रीढ़ में से गुजरने वाली स्त्रायु कोशिकाओं में तनाव पैदा होता है। इसके चलते उनमें रक्त-संचार बढ़ जाता है। इससे याददाश्त तेज होती है। अगर आप रोज तीन मिनट भी इस आसन को करते हैं तो इससे आपको बहुत फायदा होता है।



0
0

Businessman | पोस्ट किया


अल्जाइमर एक ऐसी बीमारी है जिसमें व्यक्ति की याददाश्त कमजोर हो जाती है और सोचने समझने की शक्ति कम हो जाती है| मछली और पालक का सेवन करके आप इससे आसानी से बच सकते हैं क्योकि ओमेगा-3 फैटी एसिड वाले खाद्य पदार्थों का सेवन आपको अल्जाइमर जैसी बीमारियों से बचा सकता है|

मछली और पालक में काफी अच्छी मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है. ओमेगा-3 फैटी एसिड मस्तिष्क के याददाश्त वाले हिस्सा में खून प्रवाह बढ़ाता है. इससे दिमाग संबंधी बीमारियां नहीं होती.अल्जाइमर से पीड़ित लोगों के मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं के चारों ओर एम्प्लायड प्रोटीन का गुच्छा बन जाता है. यह गुच्छा रक्त नलिकाओं को क्षतिग्रस्त कर देता है, जिससे दिमाग में खून का प्रवाह बंद हो जाता है. ससे ओमेगा-3 और मस्तिष्क में ब्लड सुर्कुलेशन के बीच संबंध का पता चला है, जो सीधे तौर पर सीखने, याद करने, अवसाद और डिमेंशिया से जुड़ा हुआ है. मछली के तेल में मिलने वाले फैटी एसिड से मस्तिष्क को मजबूती मिलती है और उसकी क्रियाशीलता में इजाफा होता है


0
0

Picture of the author