भारतीय नेवी दिवस 4 दिसम्बर को मानाने का क्या कारण है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


मयंक मानिक

Student-B.Tech in Mechanical Engineering,Mit Art Design and Technology University | पोस्ट किया |


भारतीय नेवी दिवस 4 दिसम्बर को मानाने का क्या कारण है ?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


आज भारतीय नेवी दिवस है | हर साल 4 दिसम्बर को नेवी दिवस मनाया जाता है | आप जानना चाहते हैं, नेवी दिवस 4 दिसम्बर को ही क्यों मनाया जाता है | इसके पीछे भी बहुत अहम् कारण है | दरसल नेवी डे भारतीय नौ सेना की जीत के रूप में मनाया जाता है |


4 दिसंबर 1971 को भारत और पाकिस्तान के युद्ध में भारत ने जीत हासिल की थी | यह नेवी की जीत और हमारे जाबाज़ नौ सेना के पुरुषों की शक्ति और बहादुरी का प्रतीक है | भारतीयों की जीत के जश्न को भारतीय नेवी डे के रूप में मनाया जाता है | 1971 में 3 दिसंबर को पाकिस्तानी सेना ने हमारे भारतीय हवाई क्षेत्र और सीमा के पास वाले क्षेत्र पर हमला कर दिया, और इसी हमले ने 1971 में हुए युद्ध की शुरुवात की थी | इस युद्ध में भारत की जीत हुई जिसकी जीत का जश्न हर साल आज के दिन मनाया जाता है |

Letsdiskuss
पाकिस्तान द्वारा किये गए हमले के बाद उसका मुँह तोड़ जवाब दिया गया | जिसके चलते "ऑपरेशन ट्राइडेंट" चलाया | भारतियों के इस ऑपरेशन में पाकिस्तानी नौसेना के कराची में स्थित मुख्यालय को प्रमुख निशाना बनाया गया और वही से हमले का जवाब देने की शुरुवात की गई | एक मिसाइल नाव से और दो युद्ध-पोत के समूह ने कराची के तट पर खड़े जहाजों पर हमला कर दिया | इस युद्ध की एक खास बात यह थी कि इसमें पहली बार जहाज पर सीधा चोट देने वाले "एंटी शिप " मिसाइल से हमला किया गया और पाकिस्तान के कई जहाज ध्वस्त कर दिए गए और इसी समय पाकिस्तान का ऑयल टैंकर भी तबाह हुआ जो की 7 दिनों तक जलता रहा |

नौ सेना का इतिहास :-
Indian navy हमारी भारतीय सेना का ऐसा अंग है, जो की भारत की सुरक्षा समुद्र की तरफ से करता है | जैसा की भारतीय सेना में 3 अंग होते है | थल सेना , जल सेना , वायु सेना | भारतीय नेवी को जल सेना भी कहते है | इसकी स्थापना 1612 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने जहाज़ों की सुरक्षा के लिए की थी | जिसको "रॉयल इंडियन नौसेना" नाम द‍िया गया | जब भारत आज़ाद हुआ तब 1950 में नौसेना का फिर से गठन किया गया जिसको बाद में "भारतीय नौसेना" नाम दिया गया |




0
0

Picture of the author