जलाभिषेक का क्या महत्व है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sumil Yadav

Sales Manager... | पोस्ट किया | ज्योतिष


जलाभिषेक का क्या महत्व है ?


0
0




Choreographer---Dance-Academy | पोस्ट किया


जलाभिषेक का अर्थ होता है जल से अभिषेक करना, जल अभिषेक भगवान शिव का किया जाता है और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए जलाभिषेक का विशेष महत्व है क्योंकि हिन्दू धर्म के अनुसार जल पवित्रता का सूचक माना जाता है इसलिए इसी को भगवान को अर्पित करके श्रद्धालु भगवान से अपने मन की पवित्रता, स्वच्छता व हृदय में सद्भावना की कामना करते हैं। 

Letsdiskusscourtesy-Siwan Online


अगर साधारण शब्दों में समझाऊं तो शिव शब्द संस्कृत का एक शब्द है, जिसका अर्थ होता है कल्याण है। भगवान शिव की आराधना अनादि काल से चली आ रही है और किसी भी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए शिव की आराधना की जाती है। 
उन्होंने बताया कि अनेक वस्तुओं से भगवान शिव का अभिषेक किया जाता है। जैसे की दुग्धाभिषेक पुत्र प्राप्ति के लिए, दही का अभिषेक स्नेह के लिए, घी का अभिषेक, प्रेम वृद्धि के लिए, शहद का अभिषेक धन के लिए, गन्ने के रस का अभिषेक व्यापार वृद्धि के लिए, गिलोय रस रोग नाश के लिए, बेल का रस सम्मान प्राप्ति के लिए किया जाता है।

अभिषेक के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां जो सबको मालुम होनी चाहिए -


- पंचामृत चढ़ाने के पश्चात जल अवश्य चढ़ाएं, भूलें नहीं |


- शिव पर रोली न चढ़ाकर चंदन चढ़ाएं |


- खंडित बेलपत्र न चढ़ाएं


- जलाभिषेक के समय सबसे प्रथम गणेश जी, नंदी जी, कार्तिकेय, गौरीजी उसके पश्चात शिव¨की क्रमपूर्वक पूजा करनी चाहिए।


- शिवजी के जलअहरी का जल न लांघना चाहिए और न पीना चाहिए।


- प्रत्येक वैष्णव को नारायण भक्ति के लिए शिव की आराधना करनी चाहिए।

ऐसे ही हिन्दू धर्म में मान्यता है की जो लोग नियमित रूप से जलाभिषेक करते है और भगवान शिव की पूजा करते है उनकी हर मन्नत और हर ख्वाइश पूरी हो जाती है | जलाभिषेक का सबसे सही समय सोमवार का दिन समझा जाता है क्योंकि इस दिन भगवन शिव की पूजा होती है और उन्हें खुश करने का सबसे अच्छा दिन भी माना जाता है |

इतना ही नहीं बल्कि ऐसा माना जाता है की जल में भगवान विष्णु का वास होता है और जल का एक नाम 'नार' भी है। इसीलिए भगवान विष्णु को नारायण भी कहा जाता है | जल से ही धरती का ताप दूर होता है और जो भक्त शिव को जलधारा चढ़ाते हैं उनके ताप, संताप, रोग-शोक, दुःख दरिद्र सभी दूर हो जाते हैं।
भगवान शिव की आराधना वैदिक आराधना है। भारत वर्ष में जितने भी शिवधाम हैं वहां वेद मंत्रों के साथ ही पूजा की जाती है। 


0
0

Picture of the author