पतंजलि कंपनी का गाय का घी का सैंपल मिलावटी निकला जाने पूरी बात क्या है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Rinki Pandey

| पोस्ट किया |


पतंजलि कंपनी का गाय का घी का सैंपल मिलावटी निकला जाने पूरी बात क्या है?


0
0




| पोस्ट किया


Letsdiskuss

पतंजलि गाय का देसी घी वाला प्रोडक्ट जांच में फेल निकला क्या है पूरा मामला जानिए।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं, जानी-मानी कंपनी पतंजलि (patanjali company Ramdev) का गाय के घी वाले प्रोडक्ट में मिलावट का पता चला है।

दोस्तों खाने की चीजों में मिलावट अपराध है। लोगों को सही वस्तु खाने पीने की मिल सके इसलिए सरकार समय-समय पर कंपनियों के प्रोडक्ट की सैंपल की जांच करती है। सरकारी लेब्रोटरी (government laboratory) में वैज्ञानिक तरीके से जांच करती है कि किसी तरह की मिलावट तो नहीं जो हमारे सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

चर्चित पतंजलि कंपनी आयुर्वेद के प्रोडक्ट बनाती है और देसी घी भी भेजती है लेकिन उसके देसी घी में मिलावट का पता चला है। दोस्तों जानी-मानी कंपनी बाबा रामदेव की कंपनी (Ramdev company Patanjali) है। अपने प्रोडक्ट की शुद्धता का दावा करते हैं लेकिन लैबोरेट्री में उनका देसी घी का सैंपल फेल हो चुका है।

2021 में लिया गया था सैंपल

सन 2021 में उत्तराखंड के टिहरी के एक दुकान में पतंजलि घी का सैंपल इकट्ठा किया गया था। ‌ यह सैंपल खाद संरक्षा और औषधि विभाग टिहरी ने इकट्ठा किया था। जांच में घी का यह सैंपल फेल हो गया। इसमें दोयम दर्जे का मिलावट पायी गयी है।

इसके बाद पतंजलि कंपनी ने उल्टे ही जांच अधिकारियों पर ही सवाल उठा दिया।‌ कहा ये जांच रिपोर्ट गलत है।

अब मामला केंद्रीय जांच आयोग के अधीन पहुंच गया। जहां पर फिर से सैंपल की जांच की गई और पतंजलि का गाय का देशी घी केंद्र सरकार की प्रयोगशाला में भी फेल साबित हो गया। यानी कि इसमें मिलावट पाया गया।

इस रिपोर्ट के आधार पर अब खाद्य संरक्षा और औषधि विभाग टिहरी (food security department) कोर्ट में कंपनी के खिलाफ वाद दायर करने जा रही है। दोस्तों आपको बता दें इससे पहले पतंजलि के कई प्रोडक्ट जांच प्रक्रिया में सही नहीं पाए गए हैं।

तो आइए जाने की देसी घी में क्या क्या मिलावट की जाती है।

देसी घी में क्या क्या मिलावट किया जाता?

मुनाफाखोरी के चलते इस महंगाई में लोगों को दोयम दर्जे का सामान बेच रही है। ‌ सस्ते के चक्कर में लोग मिलावटी चीज खरीद कर खा रहे हैं। कोई भी कंपनी अपने विज्ञापन के बल से आगे बढ़ती है।

आपको बता दें कि देसी घी में मिलावट हमेशा से होता रहा है। मालूम है कि देसी घी में मिलावट के लिए रिफाइंड तेल वनस्पति मिलाया जाता है। 40% रिफाइंड तेल मिलाकर इसे बनाया जाता है। देसी घी में आलू भी मिलाया जाता है। बता दे कई जगह तो देसी घी में नेपाली डालडा को धीमी आंच में भूनकर मिलाया जाता है इसमें थोड़ी सी खुशबू आने लगती है इसलिए यह पता नहीं चलता है। ‌ थोड़ा सा देसी घी में मिलाकर इसे पैकेट में बंद कर के देसी घी के नाम से बेचा जाता है। लोकल कंपनियां भी देसी घी बेचकर लाखों मुनाफा कमाती है। ‌

खाने पीने की वस्तुओं की जांच करके ही खाएं।‌ अगर किसी तरह की मिलावट का संदेह हो तो अपने जिले के खाद्य विभाग के अधिकारियों से इसकी लिखित शिकायत करें।




0
0

');