यूरीमिया रोग क्या है? - Letsdiskuss
img
Download LetsDiskuss App

It's Free

LOGO
गेलरी
प्रश्न पूछे

अज्ञात

पोस्ट किया 10 Apr, 2020 |

यूरीमिया रोग क्या है?

Ramesh Kumar

Marketing Manager | पोस्ट किया 10 Apr, 2020

यूरीमिया शब्द ग्रीक भाषा का हैं, जिसका अर्थ “रक्त” और “यूरिया” से लगाया जाता है| जिसका अर्थ है blood में Urea की मात्रा बढ़ जाना, शरीर की ऐसी स्थिति यूरीमिया कहलाती है| urea आपकी kidney के माध्यम से liver से होते हुए शरीर के बाकी अंगों में बहता है|


Kidney blood को छानते समय urea को जो कि शरीर में एक ज़हरीला पदार्थ होता है, urine के माध्यम से उसको बाहर करती है| इससे शरीर में सभी चीज़ों का संतुलन सही मात्रा में बना रहता है|


Urea की मात्रा urine से अधिक blood में होना ही यूरीमिया कहलाता है, और इस रोग को blood urea नाम से भी जाना जाता है| यूरीमिया रोग kidney की खराबी की तरफ साफ़ इशारा करता है, इसको kidney खराबी का एक लक्षण भी कहा जा सकता है|


(इमेज -गूगल)


आइये अब बात करते हैं यूरीमिया रोग के कुछ लक्षणों के बारें में:


- यूरीमिया रोग होने के पहले लक्षण है कमजोरी आना


- दूसरा लक्षण है high blood pressure रहना,


- यूरीमिया की समस्या का एक लक्षण heart से जुड़ी कोई समस्या भी हो सकता है,


- अगला है शरीर में सूजन आना, यूरीमिया रोग में मुख्य रूप से पैरों और टखनों के आसपास सूजन आती है,


- रक्त में फीकापन आना और पेट में गाँठ होना यह भी यूरीमिया रोग की वजह से हो सकता है|


- मानसिक स्थिति में परिवर्तन होना, सांस लेने में समस्या आना यूरीमिया रोग का लक्षण हो सकता है|


अगर हम यूरीमिया रोग के कारणों के बारें में बात करें तो इसके कुछ खास कारण सामने आते हैं:


- High blood pressure होने के कारण यूरीमिया रोग हो सकता है|


- अगला कारण है diabetes, जिसकी वजह से भी यूरीमिया रोग या kidney में समस्या आ सकती है|


- Kidney में सुजन आने की वजह से भी यूरीमिया रोग हो सकता है|


- Kidney में stone होने की समस्या होने के कारण यूरीमिया रोग हो सकता है|


- जिन्हें urine infection की समस्या होती है, उन्हें अक्सर kidney से जुड़ी समस्या होने की संभावना हो जाती है जिसमें यूरीमिया रोग भी शामिल है|


अब बढ़ते हैं यूरीमिया रोग के बचाव की तरफ कि इस रोग से कैसे बचा जा सकता है:


- सबसे पहले तो आप diabetes को control रखें|


- इसके बाद high blood pressure को नियंत्रित रखें|


- ऐसा कोई भी काम न करें जिससे आपके heart में समस्या हो जाए|


- धूम्रपान की गंदगी आदत से दूर रहें|


- नियमति रूप से व्ययायम करें और वजन न बढ़ने दें|


- इसके बाद अपने आहार में कुछ बदलाव करें|


- भोजन में ऐसी चीज़ों का सेवन करें जो जल्दी digest हो जाए|


- नियमित मात्रा में liquid का सेवन करें|


- सेब, लाल अंगूर, अनानास, तरबूज ऐसे फलों का सेवन करें जो आपकी kidney को स्वस्थ रखने में सहायक हो|