राजस्थान में कौन से धार्मिक स्थल जाने लायक है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sonia Verma

interior designer | पोस्ट किया |


राजस्थान में कौन से धार्मिक स्थल जाने लायक है ?


0
0




Delhi Press | पोस्ट किया


राजस्थान अपनी विभिन्न परम्परों और सभ्यताओं के कारण जाना जाता है, और यहाँ पर कई ऐसे रजवाड़े महल भी है जिन्होनें इतिहास में कई नामचीन युद्ध और यादगार चीज़ें की है | चलिए आज हम आपको बताते है क्यों राजस्थान घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह माना जाता है और अगर आप राजस्थान घूमने का प्लान कर रहे है तो हम आपको बतातें है आप कौन से धार्मिक स्थल जा सकते है |


राजस्थान के धार्मिक स्थल
Letsdiskuss
(कर्टसी - https://traveltriangle.com/)

गोविंद देव जी मंदिर, जयपुर – गोविंद देव जी जयपुर के आराध्य देव हैं। भगवान कृष्ण को समर्पित इस मंदिर में श्रीकृष्ण की मूर्ति उनके पोते बज्रनाभ द्वारा स्थापित की गयी थी।
ये मूर्ति पहले वृन्दावन के मंदिर में स्थापित थी जिसे सवाई जयसिंह द्वितीय ने जयपुर स्थित मंदिर में स्थापित किया था। 

अचलनाथ मंदिर, जोधपुर – ये मंदिर एक प्रसिद्ध शिव मंदिर है जिसका निर्माण 1531 में राव गंगा की रानी नानक देवी ने करवाया था। इस मंदिर में गंगा बावड़ी नामक जलाशय भी है।

अढ़ाई दिन का झोपड़ा, अजमेर – राजस्थान के अजमेर शहर में स्थित अढ़ाई दिन का झोपड़ा, भारत की सबसे पुरानी मस्जिदों में से एक है। इसकी वास्तुकला प्राचीन भारत-इस्लामी संरचना से प्रेरित है।
इस मस्जिद का निर्माण एक संस्कृत विश्वविद्यालय के अवशेषों पर हुआ। इसे अजमेर में सबसे पुराने मौजूदा स्मारक के रुप में भी जाना जाता है। 

ख़्वाजा गरीब नवाज़ दरगाह, अजमेर – राजस्थान का सबसे लोकप्रिय मुस्लिम स्थल ख़्वाजा गरीब नवाज़ की दरगाह है जहाँ हर समुदाय के लोग दर्शन करने आते हैं और माना जाता है कि यहाँ सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।
ये दरगाह हज़रत ख़्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की कब्र है, जो भारत में इस्लाम के संस्थापक थे। 

एकलिंगजी मंदिर, उदयपुर – उदयपुर से 22 किमी. की दूरी पर स्थित एकलिंगजी मंदिर का निर्माण उदयपुर के राजा बप्पा रावल द्वारा करवाया गया था। प्राचीन महत्त्व वाला ये मंदिर मेवाड़ कबीले के संरक्षक देवता भगवान एकलिंगजी को समर्पित है।

करनी माता मंदिर, बीकानेर – बीकानेर शहर से 30 किमी. दूरी पर स्थित करनी माता का सिद्ध मंदिर है, जहाँ करणी माता की मूर्ति स्थापित है और उन्हें माता जगदम्बा के अवतार के रुप में पूजा जाता है।




0
0

Picture of the author