बच्चों की सेहत के लिए क्यों जरूरी हैं प्रोबायोटिक्स ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Aayushi Sharma

Content Coordinator | पोस्ट किया |


बच्चों की सेहत के लिए क्यों जरूरी हैं प्रोबायोटिक्स ?


0
0




fitness trainer at Gold Gym | पोस्ट किया


अपने बच्चों की बात आती है तो सभ माता पिता बहुत सतर्क हो जाते है ऐसे में कई लोगों को यह पता ही नहीं था की प्रोबायोटिक्स क्या होता है लेकिन प्रोबायोटिक्स अब धीरे-धीरे लोगों के बीच पॉपुलर हो रहे हैं। अगर आपको साधारण शब्दों में समझौ तो प्रोबॉयोटिक फूड वह होते है जिसमें न्यूट्रीशन्स की मात्रा बहुत ज्यादा पायी जाती हैं।  

Letsdiskuss courtesy-News18 Hindi

इसके अलावा यह बच्चों के शरीर में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया और कीटाणुओं को एक्टिव होने से भी रोकते हैं, इसलिए अब लोग इन फूड्स का इस्तेमाल करने लगे हैं।

आइए जानते है प्रोबायोटिक्स क्या होते हैं?


प्रोबायोटिक ऐसे जीवित सूक्ष्मजीव होते हैं, जो प्राकृतिक तौर पर हमारी आँतों में पाए जाते हैं। साथ ही ये कुछ खाद्य पदार्थों में भी या तो प्राकृतिक रूप से उपस्थित होते हैं या फिर इन्हें उन खाद्य पदार्थों में मिलाया जाता है। ये हमारे शरीर में हानिकारक बैक्टेरिया को बढ़ने से रोकते हैं। खास तौर पर यदि किसी बीमारी अथवा किसी दवाई के असर की वजह से हमारे शरीर में प्राकृतिक रूप से मौजूद प्रोबायोटिक्स में कमी आ जाती है तो डायरिया तथा मूत्र नली संबंधी इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।

बच्चों के लिए प्रोबायोटिक्स के क्यों है फायदेमंद -

आजकल के बच्चों को अनहेल्दी फूड्स बहुत पसंद है | इन फूड्स के कारण बच्चों को कई तरह की बीमारियों का खतरा होता है जैसे पाचन की परेशानी, पेट में दर्द, डायरिया, फूड प्वायजनिंग आदि। ऐसे में अगर आप बच्चों को प्रोबायोटिक्स वाले फूड्स खिलाते हैं, तो उन्हें कई लाभ मिलते हैं, और यह सेहत के लिए भी बहुत अच्छे होते है |


- बेहतर हो जाता है पाचन
प्रोबायोटिक फूड्स के सेवन से बच्चों का पाचन ठीक रहता है। इसके सेवन से भोजन में मौजूद पोषक तत्वों को शरीर ठीक से अवशोषित कर पाता है। प्रोबायोटिक फूड्स में लैक्टोबेसिलस नाम का एक तत्व पाया जाता है, जो पेट से जुड़े रोगों और परेशानियों से बच्चों को बचाता है।


- बढ़ती है रोगों से लड़ने की क्षमता
प्रोबायोटिक्स के सेवन से बच्चों के शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता यानि इम्यूनिटी बढ़ती है। बच्चे आमतौर पर रोगों का शिकार जल्दी हो जाते हैं क्योंकि उनकी इम्यूनिटी उतनी अच्छी नहीं होती है जितनी की वयस्क लोगों की होती है। मगर प्रोबायोटिक्स के सेवन से बच्चों की इम्यूनिटी को सुधारा जा सकता है।



0
0

Picture of the author