जीवन में हंसना जरूरी क्यों है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sweety Sharma

fitness trainer at Gold Gym | पोस्ट किया |


जीवन में हंसना जरूरी क्यों है ?


0
0




Content Coordinator | पोस्ट किया


दुनिया में कई क़िस्म के लोग रहते हैं , जिनका रहन-सहन अलग-अलग होता है और साथ उनका खान-पान भी अलग होता है । अलग जाति और अलग धर्म के लोग होने के बाद भी सभी के जीवन में एक ऐसी चीज़ है जिसने लोगों को एक दूसरे जो जोड़ा है और वो है उनकी मुस्कान । लोग बेशक एक दूसरे की भाषा नहीं जानते हैं या कोई किसी इंसान को पहचानता नहीं परन्तु दो अंजान इंसान भी एक दूसरे को देख कर एक स्माइल तो कर ही देते हैं । 

Letsdiskuss (courtesy-Christian Science Monitor)
जीवन में हंसने का बहुत महत्व है, हंसना जीवन में बहुत बड़ा गुण हैं । हस्ते रहने से मानव शरीर स्वस्थ तो रहता ही साथ ही मनुष्य का तनाव भी कम होता है । इसलिए हमेशा कहा जाता है आपका वक़्त अच्छा चल रहा हो या बुरा हमेशा मुस्कुराते रहिये खुश रहिये और दूसरों को भी मुस्कराहट बाटियें |  
मुस्कुराने के फायदे -
1- हसने से खून बढ़ता है |
2- हसने से कई बीमारियां खत्म हो जाती है |
3- ब्लड सर्कुलेशन अच्छा बना रहता है |
4- हसना इसलिए भी जरुरी है इससे इम्यून सिस्टम बेहतर बनता है |
5- हंसने से शरीर में मेलाटोनिन नाम का हार्मोन बनता है जो हमे रात को सही ढंग से सोने में मदद करता है  


1
0

self employed | पोस्ट किया


हंसना मनुष्य के जीवन की एक सहज और प्राकृतिक घटना है. यही एक चीज़ है जो हमें इस दुनिया में अनोखा बनती है और यही एक चीज़ है जो सिर्फ हमारे पास है. हँसता हुआ मुस्कुराता चेहरा हर किसी को प्यारा लगता है. मुस्कुराने वाला व्यक्ति स्वयं तो खुश रहता है दुसरो को भी खुश करता है। मुस्कान वाला चेहरा कोई भी काम आसानी से करा लेता है।



स्वेट मार्डन ने लिखा है-
"मुस्कुराहट पर खर्च कुछ नही आता है पर यह पैदा बहुत करती है इसे पाने वाले मालामाल हो जाते है परन्तु देने वाले भी दरिद्र नही रहते है। एक क्षण की मुस्कान कभी कभी स्मृति बन जाती है जो बहुत काम आती है। तब भी यह मोल नही ली जा सकती है, माँगी नही जा सकती है, उधार नही दी जा सकती है क्योंकि जब तक यह दी ना जाए तब तक संसार में यह किसी के कुछ काम की नही है।"

बचपन में हम कितना हॅसते थे और जैसे जैसे हम बड़े होते गये हमारी हंसी भी कम होती गयी है. आज की दौड़ भाग वाली जिंदगी में हम हँसाना भूल गये है जिसका सबसे बड़ा कारण तनाव है हम जीवन को कही न कही बहुत ज्यादा गंभीरता से लेने लगे है, जिस कारण से हम जीना ही भूलते जा रहे है और बस भागे जा रहे है.
Letsdiskuss

हंसना हमारे जीवन के लिए कितना जरुरी है ये हम इन कुछ बातो से देख सकते है- 

लार्ड बायरन ने भी कहा है “जब मौका मिले, हमेशा हंसे क्योंकि इससे सस्ती दवा कोई नही है” 
 
1) हंसने से हद्रय की एक्सरसाइज हो जाती है। रक्त का संचार अच्छीतरह होता है। हँसने पर शरीर से एंडोर्फिन रसायन निकलता है, ये द्रव्य ह्रदय को मजबूत बनाता है। हँसने से हार्ट-अटैक की संभावना कम हो जाती है।
2) एक रिसर्च के अनुसार ऑक्सीजन की उपस्थिती में कैंसर कोशिका और कई प्रकार के हानिकारक बैक्टीरिया एवं वायरस नष्ट हो जाते हैं। ऑक्सीजन हमें हँसने से अधिक मात्रा में मिलती है और शरीर का प्रतिरक्षातंत्र भी मजबूत हो जाता है।
3) य़दि सुबह के समय हास्य ध्यान योग किया जाए तो दिन भर प्रसन्नता रहती है। यदि रात में ये योग किया जाये तो नींद अच्छी आती है। हास्य योग से हमारे शरीर में कई प्रकार के हारमोंस का स्राव होता है, जिससे मधुमेह, पीठ-दर्द एवं तनाव से पीङित व्यक्तियों को लाभ होता है।
4) हँसने से सकारत्मक ऊर्जा भी बढती है, खुशहाल सुबह से ऑफिस का माहौल भी खुशनुमा होता है। तो दोस्तों, क्यों न हम सब दो चार चुटकुले पढ कर या सुनकर अपने दिन की शुरुवात जोरदार हँसी के साथ करें।
5) रोज एक घंटा हँसने से 400 कैलोरी ऊर्जा की खपत होती है, जिससे मोटापा भी काबू में रहता है।

ध्यान रखे: 
- आपकी हंसी से दुसरे के उपहास की झलक ना नजर आये।
- बनावटी हंसी से आपके दिमाग का खालीपन दिखाई देगा।
- यदि आप दुसरो से मजाक करके हंसते है तो स्वयं भी यह गुण उत्पन्न करे कि दुसरो के मजाक को भी सहन कर सके।
- दुर्बल व्यक्तियों, विकलांगो या किसी बीमारी की स्तिथि पर हंसना स्वयं को अपनी नजर से नीचे गिराना है।

“आपकी मुस्कान आपके चेहरे पर भगवान् के हस्ताक्षर हैं, उसे अपने आंसुओं से धुलने या क्रोध से मिटने ना दें।“
                                                                                                                             -ब्रह्माकुमारी शिवानी

एक यहूदी कहावत के अनुसार - "जैसे साबुन शरीर के लिए है, वैसे हंसी आत्मा के लिए है."

फ्रेडरिक डब्ल्यू नीत्शे- "शायद मुझे पता है कि क्यों अकेला इंसान ही ऐसा है जो हँसता है; वही ही है जो इतनी गहरी पीड़ा से गुजरता है कि उसे हँसी का आविष्कार करना पड़ा. "





0
0

Picture of the author