आमंत्रण और निमंत्रण मे क्या अंतर है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


komal Solanki

Blogger | पोस्ट किया | शिक्षा


आमंत्रण और निमंत्रण मे क्या अंतर है?


8
0




Preetipatelpreetipatel1050@gmail.com | पोस्ट किया


 


- आमंत्रण और निमंत्रण को अंग्रेजी में इनविटेशन कहा जाता हैं। 
- आमंत्रण किसी विषय स्पेसल पर किसी एसे व्यक्ति का बुलाने का कार्ड होता है। 
- निमंत्रण किसी बिशेष अवसर पर विशेष व्यक्तियों का बुलावा जाता है। 

-लक्ष्य निर्धारित होने के बाद ही आमंत्रण दिया जाता है और उस लक्ष्य को प्राप्त  होते ही आमंत्रण पूरा हो जाता है। 
- निमंत्रण का उद्देश लक्ष्य  की प्राप्ति के बाद उसकी खुशी मनाई जाती है। 

 -स्टेज पर बोलने के लिए किसी व्यक्ति को आमंत्रित किया जाता है। 
लेकिन कार्यक्रम में किसी श्रोता को आमंत्रित किया जाता है। Letsdiskuss


0
0

| पोस्ट किया


आमंत्रण' और 'निमंत्रण' दोनों का अर्थ समान नहीं होती हैं दोनों का अर्थ बुलाने और  लक्ष्य निर्धारण होता है!
आमंत्रण और निमंत्रण का प्रयोग बुलाने के लिए किया जाता है!
आमंत्रण को अंग्रेजी में इनविटेशन भी कहा जाता 
है!
 आमंत्रण का अर्थ होता है कि किसी विशेष व्यक्ति  को बुलाना है! 
 नियंत्रण का अर्थ किसी व्यक्ति की मन की बात या इच्छा से होता   है!     

 आमंत्रण में लक्ष्य के सालोकाचार भी होता है और इसमें लोगों को इनवाइट करते हैं ! नियंत्रण में लक्ष्य प्राप्त होने के बाद   लोगों में उत्साह बढ़ता है!
आमंत्रण में व्यक्ति की प्रतिष्ठा जुड़ी होती है और नियंत्रण में व्यक्ति के मन के अनुसार होता है!Letsdiskuss


0
0

| पोस्ट किया


इस शब्द का प्रयोग आमंत्रण और निमंत्रण दोनों किसी को भुलाने के लिए प्रयोग किए जाते हैं आमंत्रण का मतलब होता है किसी विषय विशेष पर विशेष व्यक्ति को बुलावा होता है और वही पर निमंत्रण का प्रयोग किसी अवसर विशेष पर विशेष व्यक्तियों का बुलावा होता है और इन दोनों शब्द को अंग्रेजी में इनविटेशन कहते हैं और आमंत्रण में लक्ष्य निर्धारित होता है और लक्ष्य प्राप्त होते ही आमंत्रित समाप्त हो जाता है और ठीक हूं भाई पर निमंत्रण में लक्ष्य के साथ लोकाचार भी होता है लक्ष्य प्राप्ति के बाद उत्सव  होता है.।Letsdiskuss


0
0

prity singh | पोस्ट किया


आमंत्रण एक अनौपचारिक बुलावा है जबकि निमंत्रण औपचारिक बुलावा होता है आमंत्रण में आने वाले व्यक्ति की इच्छा के ऊपर निर्भर होता है कि उसका मन है तो आए नहीं मन है तो नहीं आए किंतु निमंत्रण में आने की अनिवार्यता झलकती है आमंत्रण के लिए कोई विशेष अवसर का होना अनिवार्य नहीं है किंतु निमंत्रण के लिए विशेष अवसर का होना अनिवार्य है जैसे की शादी विवाह पार्टी पूजाLetsdiskuss  आदि पर ही निमंत्रण दिया जाता है


0
0

Picture of the author