रात को पेड़ के नीचे क्यों नहीं सोना चाहिए? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


श्याम कश्यप

Choreographer---Dance-Academy | पोस्ट किया |


रात को पेड़ के नीचे क्यों नहीं सोना चाहिए?


0
0




Content writer | पोस्ट किया


अक्सर देखा जाता है कई लोग पेड़ के निचे अपना समय बीतने बहुत पसंद करते है | अगर आप भी प्रकृति के प्रेमी हैं और आपको भी हरियाली पसंद होगी और हरे-भरे पेड़ आपके दिल को ख़ुशी से भर देते होंगे और हो सकता है कि पेड़ के नीचे बैठना या सोना भी आप पसंद करते हों लेकिन कई जगह ऐसी मनगढ़न कहानियां भी है कि रात को पेड़ के निचे सोने से भूत आता है | लेकिन आप इस बात को नहीं जानते होंगे की पेड़ के नीचे सोने से इसलिए मना किया जाता है क्योंकि पेड़ों में श्वसन के लिए कोई विशेष अंग नहीं होते हैं और पेड़ों में श्वसन पत्तियों में मौजूद छिद्रों से होता है और उन छिद्रों को स्टोमेटा कहा जाता है। इसके अलावा पेड़ के तने पर भी कुछ छिद्र होते हैं जिनसे श्वसन क्रिया होती है। पेड़ की जड़ें सतह से सांस लेती हैं यानी पूरे पेड़ में श्वसन क्रिया लगातार चलती रहती है जिसमें पेड़-पौधे ऑक्सीजन का उपयोग करके कार्बन डाई ऑक्साइड बनाते हैं। 


Letsdiskuss (courtesy-NPR)


ये बात तो हम सभी जानते है कि दिन के समय पेड़-पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा अपने लिए खाना बनाते हैं। इसके लिए पौधे सूर्य के प्रकाश में, कार्बन डाई ऑक्साइड और पानी का इस्तेमाल करके ग्लूकोज और ऑक्सीजन बनाते हैं। जिसकी वजह से पेड़ों में पेड़ों में सांस लेने की प्रक्रियां निरंतर चलती रहती है | 

(courtesy-NPR)

पेड़ों में श्वसन क्रिया लगातार चलती रहती है लेकिन सुबह के समय सांस लेने से जो कार्बन डाई ऑक्साइड बनती है वो पत्तियों के अंदर ही जमा हो जाती है जिसका इस्तेमाल प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में किया जाता है। इस क्रिया में सारी कार्बन डाई ऑक्साइड खत्म हो जाती है और ऑक्सीजन ही बाहर निकलती है। ऐसे में दिन के समय पेड़ों के नीचे सोने से ऑक्सीजन मिलती है लेकिन रात को ऐसा इस प्रक्रिया में रात के वक़्त में थोड़ा बदलाव आता है और प्रकाश संश्लेषण की क्रिया नहीं होती है। ऐसे में रात के समय ऑक्सीजन का निर्माण नहीं होता है। इस दौरान श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन खर्च होती है और कार्बन डाई ऑक्साइड बनती है और पेड़ कार्बन डाई ऑक्साइड बाहर छोड़ते हैं। 

ऐसे स्थति में अगर आप देखें तो रात के समय पेड़ों के नीचे सोया जाए तो कार्बन डाई ऑक्साइड मिलने की वजह से दम घुटने लगेगा और हो सकता है कि मौत भी हो जाये इसलिए रात के समय पेड़ों के नीचे नहीं सोना चाहिए यही वजह है की कई लोगों ने कुछ न कुछ कहानियां बना रखी है रात को पेड़ों के निचे सोना खतरनाक है | 



0
0

Picture of the author