नवरात्रि उपवास का वैज्ञानिक कारण क्या है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

digital marketer | पोस्ट किया | ज्योतिष


नवरात्रि उपवास का वैज्ञानिक कारण क्या है ?


0
0




| पोस्ट किया


नवरात्रि के उपवास में वैज्ञानिकों का मुख्य कारण यह बताया गया है कि मौसम का तो परिवर्तन होता है और हल्की सर्दी पड़ने लगती है जिससे लोगों का  जीवन  प्रभावित होने लगता है ऐसे में मां दुर्गा के 9 दिन का उपवास करके रखना चाहिए जिससे  संयम और नियम का पालन भी किया जा सकता है।  और  मां दुर्गा को शक्ति का स्वरूप माना जाता है ऐसे में उनकी साधना से मानसिक शारीरिक संतुलन प्राप्त कर सकते हैं और मौसम में होने वाले बदलाव को सहन करने के लिए यह नवरात्र का व्रत रखना लोगों को मजबूत बनाता है.।Letsdiskuss


0
0

Content Writer | पोस्ट किया


नवरात्रि में व्रत और पूजन एक आम बात है । नवरात्रि में बहुत से लोग पूरे नौ दिन माता की पूजा करते हैं और कुछ लोग नौ दिन का व्रत रखते हैं । आइये नवरात्रि में व्रत के महत्व को जानते हैं और यह भी जानते हैं कि क्या नवरात्रि व्रत रखने का कोई वैज्ञानिक कारण है या नहीं -


- खून का शुद्धिकरण :- 

व्रत का वैज्ञानिक होने का सबसे पहला कारण है खून का शुद्ध होना । भोजन न करने से पेट को आराम रहता है जिससे शरीर का खून तो शुद्ध होता ही है साथ ही शरीर की आतों की सफाई भी होती है ।

Letsdiskuss (Image _Google )

- रोग मुक्त शरीर :- 
व्रत रखने से मानव शरीर के कई रोग ख़त्म होते हैं । सांस लेने की प्रक्रिया सही चलती है और फेफड़े भी सही तरह से काम करते हैं ।

- शरीर की ऊर्जा का बने रहना :- 
अधिक भोजन का सेवन मानव शरीर में आलास भर देता है । व्रत रखने से पूरा दिन मन में प्रसन्नता का एहसास होता है और शरीर हल्का महसूस होता है जिससे कारण आलस नहीं होता ।

- बुरे विचारों की समाप्ति :- 
जब व्रत लिया जाता है तो मनुष्य को याद होता है कि आज का दिन उसने भगवान के लिए यह व्रत लिया है और इस बात को याद कर के उसका दिमाग सभी बुरी बातों से दूर रहता है । इससे बुरे विचार नहीं आते और पूरा दिन अच्छा गुजरता है ।
यह कुछ वैज्ञानिक कारण मान सकते हैं व्रत लेने के । 



0
0

| पोस्ट किया


नवरात्रि का व्रत रखना आम बात है इस व्रत को बहुत से लोग रखते हैं क्योंकि माता के प्रति उनकी भक्ति आस्था रहती है लेकिन इस व्यक्ति रखने के पीछे कुछ वैज्ञानिक महत्व भी है तो चलिए जानती है कि वह वैज्ञानिक महत्व क्या है।

 शारदीय और  चैत्र नवरात्रि का व्रत इसलिए रखते हैं क्योंकि यह दोनों व्रत गर्मी और सर्दी के  मौसम में आते हैं क्योंकि चैत्र गर्मी के मौसम में आता है यह समय परिवर्तन का मुख्य समय होता है क्योंकि इस समय जीवाणु और बैक्टीरिया फैलाने वाले जीवाणु अधिक सक्रिय रहते हैं। मौसम के परिवर्तन के कारण अधिकांश लोगों को पेट से संबंधित बीमारियों का सामना करना पड़ता है इसलिए लोग शरीर की शुद्धि के लिए 9 दिन का व्रत करते हैं यह व्रत दूसरे व्रतों से अधिक महत्वपूर्ण होता है।Letsdiskuss


0
0

Picture of the author