चेत्र नवरात्रि के छठे दिन कौन सी देवी का पूजन होता है ,इससे क्या लाभ मिलता है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sweety Sharma

fitness trainer at Gold Gym | पोस्ट किया | ज्योतिष


चेत्र नवरात्रि के छठे दिन कौन सी देवी का पूजन होता है ,इससे क्या लाभ मिलता है ?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


देखते ही देखते नवरात्रे के पांच दिन निकल गए | आज नवरात्रे के दिन का छठा नवरात्रा है | नवरात्रि के छठे दिन देवी कात्यायनी की पूजा की जाती है | ये आदि शक्ति के छठे रूप के तौर पर पूजी जाती हैं | देवी कात्यायनी सच्चे भक्तों के लिए अमोघ फलदायिनी मानी गई है | जो लोग शिक्षा के क्षेत्र मे है उनको या फिर विद्यार्थियों को विशेष तौर पर देवी कात्यायनी  की अाराधना करनी चाहिए | इसी के साथ देवी कात्यायनी की पूजा विवाह की इच्छा रखने वालों के लिए भी फलदायी मानी जाती है | 

इस दिन मां कात्यायनी की पूजा होती है, बताया जाता है कत नाम के एक प्रसिद्ध महर्षि थे, उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए | इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे | इन्होंने भगवती की उपासना करते हुए बहुत वर्षों तक बड़ी कठिन तपस्या की थी | उनकी इच्छा थी मां भगवती उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लें | मां भगवती ने उनकी यह प्रार्थना स्वीकार कर ली, जिसके बाद से मां का नाम कात्यायनी पड़ा |यह दानवों, असुरों और पापी जीवधारियों का नाश करने वाली देवी भी कहलाती हैं |

अपने सांसारिक स्वरूप में मां कात्यायनी शेर पर सवार रहती हैं | इनकी चार भुजाएं हैं | इनके बांए हाथ में कमल और तलवार है | दाहिने हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा अंकित है | नवरात्र के छठे दिन इनके स्वरूप की पूजा की जाती है |


Letsdiskuss



12
0

Picture of the author