राजस्थान के कुछ भूतिया रहस्य क्या है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Vansh Chopra

System Engineer IBM | पोस्ट किया |


राजस्थान के कुछ भूतिया रहस्य क्या है ?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


आज आपको राजस्थान के कुछ भूतिया रहस्य के बारें में बताते हैं | दुनिया में कुछ जगहें ऐसी है, जो कि कुछ न कुछ कहती हैं, परन्तु कई बार ऐसा होता है, कि ये सभी हमे झूठ लगती हैं, और कई बार ये सब सच भी लगता है | आइये जानते हैं, ऐसी जगहें जो झूठ नहीं सच्चाई पर आधारित है |

- भानगढ़ का किला :- (अलवर)
राजस्थान के अलवर में स्थित किला सिर्फ राजस्थान में ही नहीं बल्कि पुरे भारत में सबसे खतरनाक और कुख्यात भूतिया जगह मानी जाती है | यहां पर एक तांत्रिक को मौत के घाट उतारा गया था | यह महल 17 वीं शताब्दी में महाराजा माधो सिंह ने बनवाया था। इस राजमहल में यहाँ की राजकुमारी को पाने की कोशिश करने वाले तांत्रिक की जान ली थी | जिसके कारण उसने मरने से पहले श्राप दिया था कि इस राज महल में आज के बाद भूतों का राज होगा | अब यहाँ सिर्फ खंडहर ही बचा हैं, पर यहां भूत का साया भी है | यहां शाम होते ही कोई नहीं जाता |

Letsdiskuss
- कुलधरा गांव :- (जैसलमेर )
जैसलमेर में स्थित कुलधरा गांव 170 साल से वीरान पड़ा हुआ है। इस गांव में एक अय्याश किस्म का दीवान रहता था | जो कि गांव की हर लड़कियों पर बुरी नज़र रखता था | लोगों के यहां के एक अय्याश और बुरे दीवान से अपनी बेटियों की रक्षा के लिए इस पुरे गांव को खली कर दिया और जाते-जाते यह श्राप देकर गए कि यह गांव कभी नहीं बसेगा | आज भी जो लोग यहाँ घुमने आते हैं, उनको महिलाओं की बात करने और चूड़ियों की आवाज सुनाई देती है |इस गांव की सरहद पर एक दरवाजा लगा दिया है, जो कि रात के समय बंद कर दिया जाता है |


- बृजराज भवन :- (कोटा)
कोटा राजस्थान के ब्रजराज भवन को भी भूतिया माना जाता है | इस भवन में सन 1857 में चार्ल्स बर्टन रहते थे जो कि यहां के ब्रिटिश रेजिडेंट मेजर थे। 1857 में हुई क्रांति के दौरान चार्ल्स बर्टन को मार दिया गया | अब यह माना जाता है, कि तब से मेजर चार्ल्स बर्टन की आत्मा इस भवन में भटक रही है। यहां पर खुद कोटा की महारानी ने 1980 में मेजर चार्ल्स बर्टन के भूत को देखा था।


भारत के Haunted Place कौन से हैं ? जानने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें -


0
0

Picture of the author