सबसे अच्छे भारतीय सैन्य- रहस्य कौन से हैं जिनके बारे में जनता नहीं जानती ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


arif seo

blogger | पोस्ट किया |


सबसे अच्छे भारतीय सैन्य- रहस्य कौन से हैं जिनके बारे में जनता नहीं जानती ?


0
0




self employed | पोस्ट किया


भारतीय रक्षा और उसकी सुरक्षा को लेकर किसी भी मुद्दे पर बात करना, यह एक बेहद ही संवेदनशील विषय है और देश का नागरिक होने के नाते हमारा यह फ़र्ज़ बनता है की हम उन्ही जानकारियों को आमजन तक पहुचाये जो पहले से ही देश के आमजन के लिए उपलब्ध हो.


भारत की टॉप ५ मिलिट्री एयरबेस सीक्रेट जिसे भारत की अधिकांश जनता नहीं जानती है..


1 — Andaman and Nicobar Islands. अंडमान एंड नोकोबार द्वीप समूह।

2 — Bareilly Air Force Base. बरेली एयरफोर्स बेस।

3 — Wheeler Island , Odisha. व्हीलर आइलैंड, ओडिशा।

4 — Charbatia Air Base, Cuttack. चारबतिया एयर बेस, कटक।

5 — Farkhor Air Base, Tajikistan. फारखोर एयर बेस ताजिकिस्तान।


1- Andaman and Nicobar Islands. अंडमान एंड निकोबार आइलैंड  

यहाँ ५०० से भी ज्यादा आइलैंड है पर ३४ ही यहाँ पर पर्यटकों व लोगो के लिए घूमने जाने के लिए विजिटिंग के लिए ओपन है बाकि के आइलैंड पर सबको जाने की अनुमति नहीं है और ऐसा माना जाता है की अंडमान एंड निकोबार पर इन ३४ आइलैंड के अलावा जो बाकि के आइलैंड है उनमे से कुछ पर भारत के सीक्रेट बेसेस मौजूद है और कुछ रिपोर्ट जानकारी के मुताबित भारत इस आइलैंड पर अपनी डिफेन्स फैसिलिटीज को सन १९८० के दशक से ही विकसित कर रहा है.


2- Bareilly Air Force Base बरैली एयरफोर्स बेस

उत्तर प्रदेश राज्य के नार्थ बरेली से ६ कि.मी. दूर इज्जत नगर में स्थित है स्थित इंडियन एयरफोर्स का त्रिशूल एयरबेस इतना सुरक्षित है की आज तक किसी ने भी यहाँ से किसी भी फाइटर एयरक्राफ्ट को उड़ान भरते हुए नहीं देखा है. माना जाता है की इंडियन एयरफोर्स का सबसे सेक्रेट एयरफोर्स बेस है जहा एशिया का सबसे बड़ा अंडरग्राउंड एयरक्राफ्ट हेंगर भी मौजूद है और इस बेस को केवल हाई कमान के आदेश पर ही विशिष्ट परिस्थितियों में ही खोला जाता है.


3- Wheeler Island , Odisha. व्हीलर आइलैंड, ओडिशा

ओडिशा में स्थित वीलर आइलैंड भुवनेश्वर से १५० कि.मी. की दुरी पर स्थित है जिसे हमारे देश के मिसाइल में एपीजे अब्दुल कलम जी ने स्थापित किया है. इस बेस को खासतौर पर भारत की मिसाइल फैसिलिटी को मेन्टेन्स करने के लिए स्थापित किया गया है. भारत की अग्नि मिसाइल को यही से लांच किया जाता है. भारत के मिसाइल से रिलेटेड सारे सीक्रेट ऑपरेशन को यही से अंजाम दिया जाता है.


4- Charbatia Air Base, Cuttack. चरबतिया एयर बेस, कटक

भारत में इंडियन सीक्रेट सर्विस के तहत ए.आर.सी. एविएशन रिसर्च सेंटर (ARC- Aviation Research Centre) जोकि भारत का एरिया त्रिकोना सपोर्ट बेस है और यह भारत की फॉरेन इंटेलिजेंस एजेंसी रा Research and Analysis Wing (R&AW) का ही एक हिस्सा है. इस बारे में सबको मालूम नहीं है कि


ARC अपने सुपर सीक्रेट एयरक्राफ्ट को कहा से ऑपरेट करती है लेकिन ऐसा माना जाता है कि ओडिशा के कटक में स्थित चिरबटिया एयरबेस ही वो जगह है जहा से ARC अपने सुपर सीक्रेट एयरक्राफ्ट को ऑपरेट करती है.


ऐसा कहा जाता है कि चीन के खिलाफ डिफेन्स हासिल करने के लिए अमेरिका कि ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए सेन्ट्रल इन्टेलिजेन्स एजेन्सी (CIA - The Central Intelligence Agency) ने भारत के इस सीक्रेट स्ट्रक्चर बेस को बनाने के लिए मदद कि थी. इसलिए भारत और सीआईए दोनों ही चाइना की इंटरनल इनफार्मेशन को हासिल करने के लिए इस बेस का उपयोग करते है.


5- Farkhor Air Base, Tajikistan. फारखोर एयर बेस ताजिकिस्तान।

१९९० के दशक में जब अफगानिस्तान में तालिबान के साथ युद्ध अपनी चरम सीमा पर था तब भारत ने अपने पुराने दोस्त के नाते अफगान नॉर्दन एयरलाइन के सामने मदद करने का प्रस्ताव रखा था. तब भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी रा Research and Analysis Wing (R&AW) ने अफगान नॉर्दन एयरलाइन तक मिलिट्री मदद पहुंचने के लिए इस ताजीकिस्तान में स्थित फारखोर एयर बेस के इस्तेमाल के लिए बातचीत शुरू की थी.


हलाकि उस समय यह एयरबेस ज्यादा अच्छी कंडीशन में नहीं था इसलिए भारत ने उस समय इससे रिसोर करने के लिए १० मिलियन डॉलर का निवेश किया था और मौदूजा समय में भारत इस एयरबेस से मिग -२९ यूपीजी एंड सुखोई-३० ऍमकेआई फाइटर एयरक्राफ्ट को ऑपरेट कर सकता है जो भारत को पकिस्तान के खिलाफ एक बहुत ही इम्पोर्टेन्ट स्ट्रैटेजिक एडवांटेज देता है और एक बार पकिस्तान के जनरल परवेस मुसर्रफ ने भी कहा था कि भारत का फारखोर एयरबेस वाकई में पकिस्तान के लिए चिंता का विषय है क्योकि इस एयरबेस की मदद से इंडियन एयरफोर्स कुछ ही मिनिट में पकिस्तान तक पहुंच सकती है.


अंत में .. ये सभी जानकारी पब्लिक पोर्टल पर उपलब्ध है.. किन्तु देश कि अधिकांश आम जन को इसकी जानकारी नहीं है.






1
0

Picture of the author