लड़कियों का शरीर इतना सॉफ्ट क्यों होता है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Blogger | पोस्ट किया |


लड़कियों का शरीर इतना सॉफ्ट क्यों होता है?


0
0




Student | पोस्ट किया


सामान्य रूप से देखा जाता है कि लड़कियों की त्वचा बहुत ही कोमल होती है।
और जब कभी उनसे हाथ मिलाया जाए या गले मिला जाए तो हमको वो कोमलता महसूस भी हो जाती है। वही दूसरी ओर अगर बात पुरुषो की, कि जाए तो, उनकी त्वचा को जब कभी भी स्पर्श किया जाए तो उनकी त्वचा लड़कियों की त्वचा की तुलना मे थोड़ी कठोर होती है। ऐसे में सबके दिमाग में ही प्रश्न उठता है कि ऐसा क्यों होता है? 
अगर बात जन्म की करे तो जन्म के समय लड़का- लड़की दोनों की त्वचा एक जैसी होती है एक दम मुलायम। परन्तु समय के साथ-साथ, जैसे -जैसे लड़का- लड़की बड़े होने लगते है। वैसे ही उनमें शारीरिक और मानसिक अंतर होने लगते है। लगभग 10 से 11वर्ष की आयु तक लड़के और लड़कियों का शरीर कोमल होता है।
 परंतु 13-14 साल ( जब किशोरावस्था की शुरुआत होती है) से ही शारीरिक और मानसिक अंतर होना शुरू हो जाता है। क्योंकि इस आयु में लड़कों में एंड्रोजन व लड़कियों में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्राव होना शुरू होता है। जिसके कारण शरीर में अनेकों बदलाव होते हैं। जैसे लड़कों में आवाज भारी और गहरा हो जाती है लड़कियों में आवाज पतली और मधुर हो जाती है।
 लड़कों में दाढ़ी -मूछ आ जाती हैं लड़कियों में रजोधर्म की शुरुआत हो जाती है।
 इसके साथ ही यह देखा जाता है कि लड़कों के कंधे चौड़े और शरीर सुडौल हो जाता है। वहीं दूसरी ओर लड़कियों की त्वचा बहुत मुलायम और उनके स्थन व जांघो मे वसा का संचय हो जाता है। जिस कारण उनके ये अंग मोटे और आकर्षक हो जाते हैं। अचानक शरीर मे आए बदलाव के कारण ही इस आयु में लड़का - लड़की एक दूसरे के प्रति जल्दी आकर्षित होने लगते है।
Letsdiskuss
यह अवस्था बहुत ही जटिल व संवेदनशील अवस्था होती है। क्योंकि इस अवस्था में लड़का- लड़की अपनी बाल्यावस्था से ऊपर उठकर धीरे-धीरे युवावस्था में जाना शुरू करते हैं। और शरीर में सेक्सुअल हार्मोन के स्राव के कारण मन बेचैन होने लगता है। और विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण देखने को मिलता है।
 और इस अवस्था में यह देखने को मिलता है कि लड़कों के बाल कठोर हो जाते हैं। वही लड़कियों के बाल मुलायम हो जाते हैं। मुहासे होना इस उम्र में एक आम सी बात होती है। लड़के लड़कियों के शरीर के जननांगों मे घुंघराले बाल आना शुरू हो जाते हैं।
 किशोरावस्था में आए शारीरिक बदलाव के कारण ही लड़कियों का शरीर कोमल होता है।






1
0

Youtuber | पोस्ट किया


क्या वह कारण है जिससे लड़कियों का शरीर लड़को के मुकाबलें ज्यादा कोमल हो जाता है?



लड़के और लड़कियों की शरीर की यदि बात करें तो लड़कों का शरीर कठोर तो वही लड़कियों का शरीर बहुत ज्यादा कोमल होता है।  अगर आप किसी लड़के से हाथ मिलाएंगे तो उसका हाथ आपको कठोर महसूस होगा और इसके उलट यदि आप किसी लड़की से हाथ मिलाएंगे या उससे गले मिलेंगे तो आपको यह पता चल जाएगा कि लड़कियों का शरीर लड़कों के मुकाबले कितना ज्यादा कोमल होता है। आपके दिमाग में अक्सर यह सवाल उठता होगा कि लड़कियों का शरीर इतना कोमल और लड़कों का शरीर कठोर क्यों होता है?


बचपन से ही लड़के और लड़की का शरीर एक समान होता है बचपन में आपने कभी नहीं देखा होगा कि लड़की का शरीर कठोर है और लड़की का शरीर कोमल है।  जब लड़का - लड़की बारह तेरह साल के हो जाते है तब लड़के और लड़कियों के शरीर में कुछ बदलाव आते हैं इस दौरान लड़कों का शरीर कठोर होने लग जाता है तो वहीं लड़कियों का शरीर कोमल होने लग जाता है।  धीरे-धीरे बढ़ती उम्र के साथ जब लड़का लड़की चोदह पंद्रह साल के हो जाते हैं तो लड़कों का शरीर कठोर तो वहीं लड़कियों के शरीर में अनेको बदलाव होते हैं जैसे उनके स्तन धीरे-धीरे बड़े होने लग जाते हैं और उनकी जांघों में अधिक चर्बी जमा होने लगती है जिस कारण 16-17 साल के होने तक उनका शरीर पुरषों के लड़को के मुकाबले ज्यादा आकर्षक दिखने लगता है।

13- 14 साल की उम्र में लड़के लड़कियों में कुछ बदलाव आते हैं इस दौरान लड़कों में इंटरेस्ट हार्मोन और लड़कियों में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्राव तेजी से होने लगता है जिस कारण लड़के लड़कियों के शरीर में इतनी तेजी से बदलाव होते हैं।  इसका असर लड़कों व लड़कियों की आवाज पर भी पड़ता है जहां  लड़कों की आवाज थोड़ा मोटी हो जाती है तो लड़कियों की आवाज पतली ही रहती है। उसके बाद धीरे-धीरे लड़कों के चेहरे पर दाढ़ी मूछ आने लगती है और उनके बाल कठोर हो जाते हैं तो वही बढ़ती उम्र के साथ लड़कियों के बाल और ज्यादा मुलायम हो जाते हैं,  बढ़ती उम्र के साथ साथ लड़कियों और लड़कों के चेहरे पर पिंपल आना नॉर्मल बात है, लेकिन इसके अलावा कई सारे बदलाव लड़के और लड़की में देखने को मिलते हैं।  इस दौरान लड़कियों में रजोधर्म की शुरुआत होने लगती है और इसी उम्र में जो देखा गया है कि लड़कों के कंधे चौड़े और चुड़ैल हो जाते हैं और यही वह उम्र होती है जब लड़के लड़की एक दूसरे की तरफ आकर्षित होने लगते हैं।

युवावस्था इंसान के शरीर की वह अवस्था होती है जब लड़का और लड़की एक दूसरे की ओर ज्यादा आकर्षित होते हैं क्योंकि यह वह उम्र होती है जब लड़के और लड़की के शरीर में तेजी से सेक्सुअल हार्मोन का विकास होता है,  इसीलिए वे विपरीत लिंग को की ओर ज्यादा आकर्षित होने लगते हैं। किशोरावस्था में ऐसे ही अनेको बदलाव के कारण लड़कियों का शरीर कोमल और लड़कों का शरीर थोड़ा कठोर हो जाता है।
Letsdiskuss



0
0

Student | पोस्ट किया


लड़कियों का शरीर इतना सॉफ्ट क्यों होता है? यह प्रश्न आपके मन में कभी ना कभी आया ही होगा। इसके पीछे का कारण लड़कियों में एस्ट्रोजन हार्मोन का श्रावण है। जब लड़कियों का शरीर बाल्यावस्था से युवाओं को रूपांतरित होता है तो उनके शरीर मे  सेक्सुअल हार्मोन एस्ट्रोजन का श्रावण होता है। जिस कारण शरीर में अनेकों बदलाव आते हैं। आवाज में मधुरता व त्वचा कोमल हो जाती है इसके साथ ही रजोधर्म का आरंभ हो जाता है।

Letsdiskuss



0
0

Picture of the author