Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Seema Thakur

Creative director | पोस्ट किया |

World of books and writers

0
0


Creative director | पोस्ट किया

Post Title:

"कोई किनारा जो किनारे से मिले वो,

अपना किनारा है |"

एक नाम है गुलज़ार जो लबों पर आता है तो ढेरो यादें आँखों के सामने आने लगती हैं, कभी मन में आता है "ऐ ज़िन्दगी गले लगा ले" तो कभी लगता है "दिल तो बच्चा है जी, हाँ थोड़ा कच्चा है जी |" गुलज़ार मानो जिन शब्दों को छूते हों वे अल

show more...

Creative director | पोस्ट किया

Post Title:

मंटो की मंटोइयत आज उनकी मृत्यु के बाद भी उतनी ही प्रासंगिक है जितनी उनकी मृत्यु से पहले थी | अब आप पूछेंगे कि "भई ये मंटोइयत है क्या ?" मंटोइयत वह है जब आप खुदको कीचड़ में डाल देते हैं उस कीचड़ को साफ़ करने के लिए | मंटोइयत वह है जब समाज की गन्दगी आपको दिखाई देती है और आप उसके खि

show more...

Creative director | पोस्ट किया

Post Title:

हमे अपने जीवन में किसे प्रेम करना चाहिए और किसे नहीं? क्या हमे अपने जीवनसाथी चुनने का हक़ नहीं है? क्या हो यदि आप उससे प्रेम कर बैठो जिससे आपको प्रेम नहीं करना चाहिए? कौन तय करता है कि हमे किससे प्रेम करना चाहिए और कितना?


1997 में Booker Award जीतने वाली किताब The God of Small Things यकीनन दुनिया की सर्वोच्च किताबों में से एक है | यहाँ ऐसे एक या

show more...