सुनिए, पीडब्ल्यूडी छात्रा की दर्द भरी जुबानी - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

pravesh chuahan,BA journalism & mass comm | पोस्ट किया |


सुनिए, पीडब्ल्यूडी छात्रा की दर्द भरी जुबानी


0
0




pravesh chuahan,BA journalism & mass comm | पोस्ट किया


हमारी मौजूदा सरकार नए-नए वादे और नई-नई योजनाओं को आयोजित करने के लिए जानी जाती है मगर एक बात तो इस सरकार की माननी पड़ती है कि यह सरकार केवल योजनाओं में पैसा कम और योजनाओं के विज्ञापन में पैसा ज्यादा लगाती है. मोदी सरकार ने विकलांग लोगों को नई पहचान दिव्यांग के रूप में तो दे दी है मगर दिव्यांग शब्द भी सिर्फ नाम का ही दिया है खबरें बताती हैं कि  सरकार दिल्ली विश्वविद्यालय का निजीकरण करने पर उतारू हो गई है| जिस वजह से  दिल्ली विश्वविद्यालय अध्यापक संघ  हड़ताल भी करता है देश की प्रतिष्ठित संस्था दिल्ली विश्वविद्यालय की पीडब्ल्यूडी छात्रा की जब आप दासता सुनेंगे तो आप भी हक्के बक्के रह जाएंगे|

 दिल्ली विश्वविद्यालय के राम लाल आनंद कॉलेज की छात्रा निधि जो कि एक पीडब्ल्यूडी श्रेणी की छात्रा है निधि ने बताया कि उन्होंने पिछले 18 महीने से मोटराईज वहील कुर्सी के लिए आवेदन किया हुआ था.18 महीने के लंबे अंतराल के बाद जब उन्हें मोटराइज्ड कुर्सी मिली तो वह भी सिर्फ दिखावट के लिए ही मिली. निधि का कहना है कि पिछले 18 महीने से उनको बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था.कॉलेज में पीडब्ल्यूडी छात्रों के लिए कोई विशेष सुविधा उपलब्ध नहीं है सुबह उनके पापा कॉलेज के गेट के पास छोड़ते हैं और निधि की दोस्त उनको लेकर कॉलेज में प्रवेश करती हैं निधि की दोस्त मोटराइज्ड कुर्सी मिलने से पहले 18 महीने उनकी दोस्त उनके साथ संघर्ष करती रही. रोज सुबह गेट के पास से व्हीलचेयर से लेकर आती हैं और क्लास में लेकर जाती हैं जब निधि की दोस्त कॉलेज नहीं आती है तो नीधि को उस दिन कॉलेज की छुट्टी लेनी पड़ती है. क्योंकि अगर वह कॉलेज जाती है तो निधि को गेट से क्लास तक ले जाने वाला कोई नहीं होता हालांकि मोटराइज कुर्सी मिलने के बाद कुछ राहत तो उनके मिली है मगर उन राहतों को भी कोई कालेज प्रशासन की नजर लग चुकी है, मोटराइज्ड वहील कुर्सी को केवल कॉलेज में इस्तेमाल करने की इजाजत है और घर जाते समय कुर्सी को कॉलेज में ही छोड़ कर जाना पड़ता है निधि ने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय से जुड़े बाकी कॉलेज पीडब्ल्यूडी श्रेणी के छात्रों को मोटराइज कुर्सी निजी इस्तेमाल करने के लिए भी प्रदान करती है मगर यह कॉलेज ऐसा नहीं करता निधि ने आगे बताया कि वह इस कॉलेज से इतना परेशान है कि उनका मन करता है वह किसी दूसरे कॉलेज में स्थानांतरण करवा ले मगर समय ज्यादा होने के बाद किसी दूसरे कॉलेज में भी प्रवेश मिलना संभव नहीं है, जब कॉलेज में  एडमिशन करानी होती है तो  वह  पीडब्ल्यूडी श्रेणी के छात्रों को  एडमिशन के समय तरह-तरह की लालच देते है कि यह कॉलेज  ऐसे छात्रों के लिए बिल्कुल सक्षम है.उनके लिए सुविधाएं भी अच्छी हैं  मगर कॉलेज में  आने के बाद पता चला कि  एडमिशन के वक्त ही मीठी मीठी बातें की जाती है और बाद में  छात्रों की अनदेखी होती  हैं. निधि का कहना है कि अगर उन्हें मोटराइज वहील कुर्सी निजी इस्तेमाल करने के लिए मिलती है तो इससे उनकी बहुत सी परेशानियों का सफाया हो सकता है 

नीधि के पिता एक प्राइवेट कंपनी में जाँब करते हैं और उनको निधि को लेकर आने और ले जाने में अपनी जॉब से छुट्टी लेनी पड़ती है जिससे निधि के पिता के जॉब का भी नुकसान होता है निधि का कहना है कि अगर उन्हें मोटराइज वहील कुर्सी निजी इस्तेमाल करने के लिए मिलती है तो उनके पिता को लेकर आने और ले जाने की दिक्कत नहीं होगी. क्योंकि मोटराइज कुर्सी से आसानी से कॉलेज आ जा सकती हैं और कॉलेज में किसी दूसरे छात्र की जरूरत भी उन्हें नही होगी. जिससे वह खुद अपने दम पर घर से कॉलेज और कॉलेज से घर आ जा सकती हैं.
Letsdiskuss


0
0

Picture of the author