नवग्रहों की परेशानियों से बचने के कुछ खास और सरल उपाय - LetsDiskuss
img
Download LetsDiskuss App

It's Free

LOGO
गेलरी
ब्लॉग बनाएं

नवग्रहों की परेशानियों से बचने के कुछ खास और सरल उपाय

पंडित दयाराम शर्मा

@ Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | | Astrology

जैसा कि हिन्दू धर्म में ज्योतिष का बहुत बड़ा महत्व है | जिसके चलते लोग कुंडली, ग्रह और नक्षत्र पर भरोसा करते हैं | अगर किसी की ग्रह नक्षत्र अच्छे नहीं होते तो उसको कई तरह की समस्या हो सकती है | आइये आज जानते हैं ग्रहों और नक्षत्रों की परेशानी से कैसे बचा जा सकता हैं |


सूर्य ग्रह :-

- यदि आपकी कुंडली में सूर्य ग्रह का प्रभाव बुरा है तो आप घर के लिए केसर या गुलाब की खुशबू वाला रूम फ्रेशनर का प्रयोग कर सकते हैं |

- आप इन दो खुशबू वाली अगरबत्ती का का प्रयोग भी कर सकते हैं |

- अपने शरीर के लिए भी इन दोनों शरीर के लिए इस सुगंध वाले इत्र का उपयोग करें।

- अपने पिता की सभी आज्ञाओं का पालन जरूर करें |

इससे आपके सभी रुके हुए काम बनेंगे | पिता का आशीर्वाद हमेशा आपके साथ होगा जो कि आपको हर मुसीबत से बचाएगा और साथ ही आपको आपके काम में सफलता दिलाएगा | सूर्य देव मानव की कुंडली में पिता का प्रतिनिधित्व करता है | जैसा कि सूर्य ग्रह हमारी राशि में सूर्य देव हैं, जिनका दिन रविवार निर्धारित है, इसलिए हर रविवार सूर्य देव को जल जरूर चढ़ाना चाहिए |


(Courtesy : Starzspeak )


चंद्र ग्रह :-

- चंद्र ग्रह में परेशानी हो तो चमेली और रातरानी की खुसबू वाले इत्र का प्रयोग करना चाहिए |

- चन्द्रमा या चंद्र ग्रह सभी की कुंडली में माता का प्रतिनिधित्व करता है |

- अपनी माता की सभी आज्ञा का पालन करना चाहिए |

- प्रतिदिन सुबह सबसे पहले अपनी माँ का आशीर्वाद लेना चाहिए |

- इस बात को हमेशा याद रखना भगवान का आशीर्वाद आपको फल देर में देगा परन्तु माँ का आशीर्वाद आपको तुरंत असर करता है |

- हर सोमवार शिव जी पर जल चढ़ाएं और भगवान शिव की आराधना आपके चंद्र ग्रह के कष्ट को कम करेगी |


(Courtesy : babamahakaal )


मंगल ग्रह :

- इस ग्रह की परेशानी से मुक्ति के लिए लाल चंदन के इत्र का प्रयोग करना चाहिए |

- नव ग्रह में मंगल ग्रह भाइयों का प्रतिनिधित्व करता है।

- अगर भाई बड़ा है तो उसका आशीर्वाद जरूर लें और अगर आपका भाई आपके छोटा है तो आप उससे प्यार से बात करें |

- भाई खुश रहेंगे तो आपके जीवन में कभी किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आएगी और आपको हमेशा सफलता मिलेगी |

- सामाजिक हो या समाज से कहीं बाहर आपको सम्मान मिलेगा |

- हर मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें।


(Courtesy  : WordPress.com )

 

बुध ग्रह :-

- बुध ग्रह की शांति के लिए चंपा के फूल की खुसबू वाले इत्र का प्रयोग करें इससे बुध ग्रह की दृष्टि सही रहेगी |

- बुध ग्रह कन्या का प्रतिनिधित्व करता है, जिसके अंतर्गत मौसी, बहन, बुआ ये सभी आते हैं |

- किसी को नाराज़ करने और अच्छे रिश्ते न रहने पर यह ग्रह अधिक असर करता है |

- इन्हें नाराज न करें, खुश रहें और इन्हे भी खुश रहने दें |

- अपने माथे पर प्रतिदिन केसर का तिलक लगाएं और सोने की कोई भी वस्तु धारण जरूर करें |

- हर बुधवार को हरी मूंग का दान करें और गाय को हरी घांस खिलाएं |


(Courtesy : Aaj Tak )


गुरु ग्रह :-

- केसर और केवड़े के इत्र का प्रयोग करें |

- हर गुरुवार पीले फूलों से भगवान विष्णु का पूजन करें |

- गुरु ग्रह घर के बड़े बुजुर्ग और आपके गुरु का प्रतिनिधित्व करता है |

- बड़ों और अपने गुरु का आदर करें |

- हरिवंशपुराण का पाठ करना और पीपल को जल चढ़ाना बहुत अच्छा होता है |


(Courtesy : Starzspeak )


शुक्र ग्रह :-

- शुक्र ग्रह को सुधारने के लिए सफेद फूल, चंदन और कपूर की सुगंध बहुत ही लाभकारी है |

- शुक्र ग्रह स्त्री का प्रतिनिधित्व करता है |

- पुरुष अपने व्यवहार से कितना भी परेशान हो स्त्री की समझदारी से काम लेना चाहिए |

- सफ़ेद वस्त्र का दान करना शुक्र ग्रह को शांत करने के लिए लाभकारी है |


(Courtesy : Raj Express )


शनि ग्रह :-

- शनि ग्रह सबसे खतरनाक ग्रह है | शनि ग्रह के अच्छे प्रभाव के लिए कस्तुरी, लोबान और सौंफ की सुगंध का उपयोग करना चाहिए |

- शनि देव गरीबों से अधिक प्रेम करते हैं, इसके लिए आपको अपने घर में काम करने वाले लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए |

- शनिवार के दिन काली दाल, काले तिल, कंबल और सरसों का तेल का दान करना अच्छा होता है |

- पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दिया जलायें और सुबह सूर्य उदय से पहले पीपल पर जल चढ़ाएं |


(Courtesy : wallpapersshock.com )


राहु और केतु छाया ग्रह :-

- काली गाय का पूजन करें |

- घी व कस्तुरी के इत्र का प्रयोग करें |

- घर में साफ़ सफाई रखें मुख्यतः घर के शौचालय को |

- घर में प्रतिदिन कर्पूर जलाएं |

- गुड़ और घी को मिलकर उसको प्रतिदिन गोबर के कंडे में जलाकर घर में धुंआ करें |


(Courtesy : patrika.com )