Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Prince Sen

Blogger | पोस्ट किया |


कोरोना से भी खतरनाक थी ये महामारियां, जो ले चुकी हैं करोड़ों लोगों की जान

0
0



दोस्तों, दुनिया में कई बीमारियों के कारण हर दिन लाखों लोग शिकार होते हैं। लोग अनजाने में वायरस, बीमारियों को फैलने देते हैं और उनका संक्रमण पूरी दुनिया में फैल जाता है।


1. इन्फ्लुएंजा फ्लू -1918:-

दुनिया ने इन्फ्लूएंजा वायरस को सौ साल पहले देखा था और दुनिया भर में मारे गए 100 मिलियन लोगों में से एक था। यह वायरस ज़ूनोसिस सूअरों से मनुष्यों या मनुष्यों से सूअरों तक फैलता देखा जा रहा था। स्पेन के इन्फ्लूएंजा का नाम 1918 के स्पेन में विनाशकारी फ्लू के नाम पर रखा गया था। वर्ष 1918 में न तो कोई इलाज था और न ही कोई प्रभावी टीका।


2 .एशियन फ्लू 1957-58:-

एशियाई फ्लू में एक इन्फ्लूएंजा ए (H2N2) महामारी है। पहली बार फरवरी 1957 के अंत में चीन में पहचाना गया, एशियाई फ्लू जून 1957 तक संयुक्त राज्य अमेरिका में फैल गया, जहाँ इसने लगभग 70,000 लोगों की मृत्यु की। इसे एशियाई इन्फ्लूएंजा के रूप में भी जाना जाता है।


3. हांगकांग फ्लू -1968:-

हांगकांग फ्लू महामारी एक महामारी थी जिसने 1968 और 1969 में दुनिया भर में अनुमानित 1 मिलियन लोगों को मार डाला था। यह इन्फ्लूएंजा ए वायरस के H3N2 तनाव के कारण हुआ था, क्योंकि यह हांगकांग में उत्पन्न हुआ था, महामारी को हांगकांग फ्लू के रूप में भी जाना जाता है।


4. इबोला वायरस- 1976:-

अफ्रीका के सूडान में, बीमारी की पहचान सबसे पहले 1976 में इबोला नदी के पास एक गाँव में हुई थी। यही कारण है कि इसका नाम इबोला रखा गया। इबोला एक ऐसी बीमारी है जो किसी मरीज के संपर्क में आने से फैलती है। इससे टाइफाइड, हैजा, बुखार और मांसपेशियों में दर्द होने का खतरा होता है। बाल झड़ने लगते हैं। इबोला के रोगियों की मृत्यु का 50 से 80 प्रतिशत दर्ज किया गया है।

कारक एजटें


इबोला वायरस रोग (EVD; इसेपहल ईबोलाे रक्तस्ावी बुखार ेक रूप मेंजाना जाता ैह) इबोला वायरस के संक्रमण के कारण होता ैह जो फिलोववररडे पररवार सेसंबंधित ैह| मनषयोंुEVDमेंकी औसत मतयुृ दर लगभग 50% (वपछला प्रभावों से25% स 90%े तक धभनन) ह।ै


EVD सबसेपहल 1976े म दक्षिणें सडान औरू कागों लोकतावरिकं गणराजय म,ेंक््थित गाव मं इबोलाें नदी के पास पहली बार फदखाई फदया, जहाँस इसकोे य नामे धमला। तब सेयह रोग कभी-कभी फदखाई दताे ह। ैEVD की उप-सहारा अफ्ीका मेंकागो ंलोकतावरिक ंगणराजय, गैबॉन, दक्षिण सडान,ू कोटेडी आइवर, युगाडां और कागों सफहत कई ्थिानों पवटिु की गई ैह।


1976 मेंEVD वायरस की खोज के बाद स मारे 2014्च स जनवरीे 2016 के बाद स पक्चिमे अफ्ीका मेंइबोला वायरस िलनै काे सबस बडाे प्रकोप हआु ह। धगनी, लाइबररयाे और धसयरा धलयोन मखयु

रूप सेइस स प्रभाववते हए।अग्तु 2018 म,कागो लोकतावरिक गणराजय मेंEVD का प्रकोप ररपोटर् फकया गया थिा, अकटबर् 2019 तक 3000 सेअधिक मामलेसामन आएे थि।


5 .एड्स -1986:-

इस वायरस को पहली बार 1988 में ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस का नाम मिला था। एक संक्रमित व्यक्ति में, संक्रमण के 6 महीने से 10 साल बाद तक एड्स के लक्षण विकसित हो सकते हैं। इसके बाद, दुनिया में एड्स के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए अभियान शुरू हुए और 1988 से हर साल 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस के रूप में मनाया जाता है।

HIV टेस्ट क्या है? : एक HIV टेस्ट से उन एंटीबॉडीज का पता लगाया जा सकता है जो आपके शरीर में VIRUS होने के कारण पैदा होता है। संक्रमण की शुरुआत के बाद करीब दो से छे सप्ताह बाद रक्त में एंटीबॉडीज पैदा होते हैं। HIV बीमारी का पता लगाने के लिए आम तौर पर छह सप्ताह, तीन माह या छह माह हो जाने पर टेस्ट कराया जाता है जिसके बॉस अगर बियक्ति एड्स से पीड़ित ह तो  टेस्ट से बीमारी को पकड़ा जा सकता है। मुख्य शहरों में यह उपलब्ध है।

HIV संक्रमण के चिन्ह या लक्षण क्या हैं? :  एड्‍स के लक्षण तुरंत ही पैदा नहीं होते हैं और न ही लक्षणों से HIV संक्रमण का पता लगता है। प्रभावित होने के पहले कुछेह सप्ताहों में प्रभावित व्यक्ति को थकान के साथ हल्का बुखार आता है और इसके बाद आपका गला खराब हो जाता है।



6. स्वाइन फ्लू -2016:-

2006 भारत में, इस बीमारी से कुल 1,094 मौतें हुईं और 22,186 मामले सामने आए। H1N1 इन्फ्लूएंजा, जिसे स्वाइन फ्लू के रूप में जाना जाता है, एक अत्यधिक संक्रामक रोग है और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैलता है। 2009 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे महामारी घोषित किया। 2015 में फिर से भारत में स्वाइन फ्लू के 933 मामले सामने आए, जिसमें 218 लोगों की मौत हुई।


7. कोरोना वायरस -2020:-

चीन के वुहान शहर से फैला यह कोरोना वायरस अब तक दुनिया के 100 से अधिक देशों में फैल चुका है। अब तक दुनिया भर में 8316 लोग मारे गए हैं और 100 देशों में संदिग्ध मामले सामने आए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन पहले ही इसे आपातकाल घ