क्या भारत की राजधानी दिल्ली मे सांस लेना संभव है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


अनीता कुमारी

Home maker | पोस्ट किया |


क्या भारत की राजधानी दिल्ली मे सांस लेना संभव है ?


0
0




Optician | पोस्ट किया


                                             "इस  शहर को ना जाने क्या हो गया,कहते है इसे भारत का दिल,

                                              पर ये इंसानो के दिल की धड़कन रोकने पर मजबूर हो गया ,

                                              इस शहर को ना जाने क्या हो गया ........."


                         जो शहर कभी लाल क़िला , इंडिया गेट, क़ुतुबमीनर और जंतरमंतर जैसे ख़ूबसूरत और यादगार इमारतों के नाम से जाना जाता था। जिसे भारत का दिल कहा जाता है। जिसके लिए यह कहा गया है " दिल्ली है दिल वाली की " ।

                                         ये दिल वालों की दिल्ली को ना जाने क्या हो गया। क्यों इसकी हवा इतनी ज़हरीली हो गई के यह साँस लेना मुश्किल हो गया। जिस शहर में मानव  जीवन जीना एक सपने के समान हुआ करता था। आज वही एक एक साँस के लिए लोग ज़हरीली हवा से जूज रहे है। सामान्य जीवन मानो इस शहर में असम्भव सा हो गया |

                                          अगर ऐसा ही रहा तो वो दिन दूर नहीं जिस दिन मनुष्य को जीवन जीने के लिए साँसे कम पड़ जाएँगी। दिल्ली शहर की इस ज़हरीली हवा में खुल कर साँस लेना जितना मुश्किल है उतना ही यह जीना नामुमकिन सा होता जा रहा है। दिल्ली मे जीवन इतना मुश्किल होगा तो इंसान कैसे साँसे लेगा कैसे जियेगा | इंसान वक़्त से पहले या तो बूढ़ा हो जाएगा या फिर मर जाएगा | 



Letsdiskuss




5
0

Picture of the author