सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) लगने से लेकर ख़त्म होने तक कौन से काम नहीं करना चाहिए ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sumil Yadav

Sales Manager... | पोस्ट किया | ज्योतिष


सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) लगने से लेकर ख़त्म होने तक कौन से काम नहीं करना चाहिए ?


0
0




Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | पोस्ट किया


ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण की स्थिति मानव जीवन पर प्रभाव डालती हैं, परन्तु असर अच्छा हैं या बुरा ये आपकी राशि पर निर्भर होता हैं | आप जानना चाहते हैं, कि सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) लगने से लेकर ख़त्म होने तक कौन से काम नहीं करना चाहिए ? तो पहले ये जानना जरुरी हैं, कि सूर्य ग्रहण होता क्यों हैं ?


आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि आज 13 जुलाई 2018 को सूर्य ग्रहण हैं | जो कि, भारत में नहीं दिखाई देगा | सूर्य ग्रहण होता क्यों हैं ? ये बहुत कम लोग जानते हैं | कहा जाता हैं, जब चन्द्रमा हमारी पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाता हैं, और यह तीनो एक सीध में होते हैं, तब सूर्य ग्रहण आता हैं | 40 साल पहले सूर्य ग्रहण 13 दिसंबर 1974 को पड़ा था, और अब 13 जुलाई को आया हैं |
सूर्य ग्रहण लगने पर क्या न करें ?

- सूर्य ग्रहण लगने से कुछ समय पहले सूतक लग जाता हैं | ज्योतिष के अनुसार सूतक एक ऐसा समय होता हैं, जब कोई शुभ काम नहीं किये जा सकते हैं | इसलिए सूतक लगने से पहले ही आप अपने महत्वपूर्ण काम कर लें तो वो आपके लिए अच्छा होगा |

- वैसे शाश्त्रों के अनुसार कहा जाता हैं, कि सूर्य ग्रहण लगने के बाद मनुष्य को पानी का सेवन भी नहीं करना चाहिए | बूढ़े व्यक्ति,या बीमारी व्यक्ति ,या गर्ववती स्त्री ये सभी लोग खाने और पानी का सेवन कर सकते हैं |

- सूर्य ग्रहण के समय गर्ववती स्त्रियों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए | ये उनके बच्चे के लिए नुकसानदायक होता हैं |

- सूतक लगने से पहले मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं | सूतक लगने के बाद भगवान् के मंदिर नहीं जाना चाहिए, और अपने घर में पूजा वाले स्थान से भी दूर रहना चाहिए |

- सूर्य ग्रहण के बाद गंगाजल से स्नान करना चाहिए, घर पर भी गंगाजल छिड़कर कर घर को शुद्ध करना चाहिए |

- घर के पूजा स्थान में अगर आप ने मूर्ति स्थापित की हैं, तो मूर्ति को गंगा जल से स्नान कराना चाहिए |

- बिना नहाये भोजन न बनाना चाहिए और न ही भोजन करना चाहिए |

Letsdiskuss


0
0

Picture of the author