क्या है वाटर थेरेपी? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Media specialist | पोस्ट किया |


क्या है वाटर थेरेपी?


0
0




Fitness trainer,Fitness Academy | पोस्ट किया


वजन घटाने की बात हो तो लोगों के दिमाग में सबसे पहला ख्याल वर्कआउट और डाइटिंग का ही आता है, और कई लोग तो अजीब - अजीब तरह के नुस्खें भी अपनाते है। मगर आप बिना डाइटिंग और वर्कआउट के ही वजन घटा सकते हैं। जी हां, आज हम आपको जापानी वॉटर थेरेपी के बारे में बताएंगे, जिससे वजन तेजी से कम होगा।


Letsdiskuss

(courtesy-Noted)

क्या है जापानी वॉटर थेरेपी? 
जापानी वॉटर थेरेपी एक तरह से आपको सही पानी पीने का तरीका बताता है, जिससे वजन कम करने के साथ-साथ और भी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स को आसानी से ठीक किया जा सकता है। इस थेरेपी के अनुसार आपको अपनी दिनचर्या में पानी पीते समय 5 बातों का ख्याल रखना बहुत जरुरी है, जिसका असर आपकी सेहत और मेटाबॉलिज्म पर पड़ता है | इसके अलावा यह जापानी वाटर थैरेपी पेट को साफ रखने में भी मदद करती है ।
जापानी वाटर थेरेपी के अनुसार कौन सी 5 बातों को रखें ध्यान -
- सुबह उठने के बाद खाली पेट 4-5 गिलास गुनगुना पानी पिएं और इस बात का ख्याल रखें कि हर गिलास 160-200 मि.ली का हो। सुबह पानी पीना ना केवल दिन को किक-स्टार्ट करने में मदद करता है बल्कि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को शरीर से खत्म करने में मदद करता है |

- ब्रश करने से पहले एक गिलास पानी पिएं |

- भोजन चाहे किसी भी समय का हो, खाना खाने के कम से कम 2 या 3 घंटे बाद ही पानी पिएं।

- यह ध्यान रखना जरूरी है कि जो लोग गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं, यहां तक कि बुजुर्गों को भी धीरे-धीरे पानी का सेवन बढ़ाना चाहिए। वह सुबह एक गिलास पानी से शुरू कर सकते हैं।

- पानी पीते समय पोजीशन का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है। जापानी थेरेपी ही नहीं बल्कि आयुर्वेद के अनुसार भी खड़े होकर पानी पीना गलत माना गया है। इसलिए हमेशा ध्यान रखें पानी कभी भी खड़े हो कर ना पिए |

- सुबह अगर आपको चार गिलास पानी पीने में दिक्कत हो तो हर गिलास के पहले थोड़ा रूक जाए और अपने पेट को जरा आराम दें, और रुक रुक कर पानी पिएं |

थेरेपी के फायदे

-डाइजेशन सिस्टम ठीक होता है

-वजन कम करने में मदद मिलती है

-डायबिटीज में फायदा होता है

-हाई बी पी की शिकायत दूर होती है

-आर्थराइटिस में फायदा मिलता है

-स्ट्रैस कम होता है

-मेटाबॉलिज्म अच्छा रहता है और

-बॉडी में से टॉक्सिन्स निकल जाते हैं
 




0
0

Picture of the author