हनुमान जी के कौन से पावन धाम हैं जहां जाने से शनि दोष दूर हो जाता है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


राहुल ओबरॉय

Engineer,IBM | पोस्ट किया | ज्योतिष


हनुमान जी के कौन से पावन धाम हैं जहां जाने से शनि दोष दूर हो जाता है ?


0
0




Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | पोस्ट किया


जहां शनि देव का नाम आता है वहां एक डर बैठ जाता है कि न जाने अब क्या होगा | जैसा कि आपको हमेशा से ही बताया गया है कि शनि देव एक ऐसे देवता है, जीनका गुस्सा उन्हें कभी भी दानव बना सकता है | अर्थात शनि देव जिनकी राशि में अच्छे हैं तो उनका बाल भी कोई बांका नहीं कर सकता वहीं अगर उनका प्रकोप किसी राशि पर आ जाए तो उन्हें कोई बचा भी नहीं सकता | इसलिए उनके प्रकोप को कम करने के लिए शनि देव के कई उपाय किये जाते हैं |


आज आपको कुछ ऐसे मंदिर बताते हैं जहाँ जाने मात्र से शनि का प्रकोप कम होता है | हनुमान जी का पूजन भी शनि के दोष को कम करता है आज आपको कुछ ऐसे मंदिर बताते हैं जिनके दर्शन मात्रा से शनि दोष खत्म होता है |

पटना का महावीर मंदिर :-
उत्तर भारत प्रसिद्द मंदिरों में सबसे प्रसिद्द पटना का महावीर मंदिर माना जाता है | इस मंदिर की यह मह्यता है कि इस मंदिर के दर्शन मात्रा से शनि दोष और उससे होने वाले कष्ट दूर हो जाते हैं | इस मंदिर के अंदर रामसेतु पत्थर रखा गया है जो हमेशा पानी में तैरता रहता है | इस मंदिर में हर मंगलवार और शनिवार के दिन भक्तों की अधिक भीड़ आती है | यहां भगवान के भोग के लिए शुद्ध घी का विशेष लड्डू बनाया जाता है जो कि किसी और मंदिर में नहीं मिलता |

Letsdiskuss (Courtesy : Bol Bihar )

तेलंगाना हनुमान मंदिर :-
हनुमान जी को बाल ब्रह्मचारी के रूप में पूजा जाता है, हर जगह उनके कई रूप हैं, परन्तु तेलंगाना के एक मंदिर में हनुमान जी अपनी पत्नी के साथ विराजमान है | हैदराबाद से 220 कि.मी की दूरी पर खम्मम जिला हैं जहां पर हनुमानजी और उनकी पत्नी सुवर्चला का मंदिर है | मान्यता है इस मंदिर में भगवान के दर्शन मात्र से शनि दोष दूर होता है |

(Courtesy : lordhanuman )

बेट द्वारका हनुमान दंडी मंदिर :-
गुजरता में स्थित बेट द्वारका हनुमान दंडी मंदिर भी काफी प्रसिद्द है | इस मंदिर में हनुमान जी मकरध्वज के साथ विराजमान है | इस मंदिर की मान्यता है कि यहां अहिरावण ने भगवान राम और लक्ष्मण को छुपा कर रख लिया था और जब हनुमान जी उन्हें बचाने गए तो उसके लिए उन्हें मकरध्वज से युद्ध करना पड़ा और हनुमान जी विजय हुए और उन्होंने मकरध्वज को उन्हीं की पूंछ से बाँध दिया |

(Courtesy : YouTube )



0
0

Picture of the author