क्यों इतनी घृणित होती जा रही है राजनीती,क्या ये किसी इंसान की जान से बढ़कर है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


मयंक मानिक

Student-B.Tech in Mechanical Engineering,Mit Art Design and Technology University | पोस्ट किया |


क्यों इतनी घृणित होती जा रही है राजनीती,क्या ये किसी इंसान की जान से बढ़कर है ?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


राजनीती के नाम से तो पहले ही लोग दूर रहना पसंद करते है | क्योकि जहाँ राजनीती होती है वहाँ बस शाजिश ,भ्रष्टाचार ,विरोध ,घूसखोरी ,परिवारवाद ,समाजवाज ,आर्थिक समस्या, मतलब ,गैर जिम्मेदारी का एहसास और भी बहुत कुछ ऐसा होता है जो इंसान ने सोचा भी न हो | भारत एक है पर इसमें राज करने वाले कई आ  गए है | बस राज करना चाहते है | पर जिम्मेदारी कोई नहीं उठाना चाहता | सबको अपनी हुकूमत चलानी है पर किसी को किसी की परेशानी नहीं देखनी |


राज+नीति बस ऐसी नीति जिसमे राज करना हो ,वर्तमान समय मे लोगो ने राजनीती को ऐसा बना दिया है | क्या लगता है सबको राजनीती ऐसी होती है | कोई मरता है तो मरता रहे हमे क्या , कोई गलत काम करता है तो करता रहे हमे क्या,सरकार को कोई फर्क नहीं  आम जनता की परेशानी का ,जनता परेशान होती है तो होती रहे सरकार को क्या | बस भारत की राजनीती सरकार के साथ साथ आम जनता मे आती जा रही है |


इतने अपराध हो रहे है भारत देश मे इसके लिए कौन जिम्मेदार है | भारत मे जो लोग  राज करने का सपना देख रहे है  क्या  उनको भारत मे रहने वाली आम जनता की परेशानिया दिखाई देती है |  क्या वो भारत मे होने वाले अपराध को बंद कर सकते है | चलिए बंद न सही पर अपराधों मे नियंत्रण ही सही क्या वो ऐसा कर सकते है | अगर ऐसा करने मे वो सक्षम है तो वो भारत देश मे राज करने के लिए उनका खुद का चुनाव सही है अन्यथा नहीं |



Letsdiskuss


3
0

Picture of the author