ज्योतिष शास्त्र कैसे हाथों की रेखा से जुड़ा हुआ है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Ramesh Kumar

Marketing Manager | पोस्ट किया | ज्योतिष


ज्योतिष शास्त्र कैसे हाथों की रेखा से जुड़ा हुआ है ?


1
0




Social Activist | पोस्ट किया


सबसे पहले तो आपकी ये बता दें कि ज्योतिष शास्त्र हाथों की रेखा से नहीं जुड़ा बल्कि हस्त रेखा ज्ञान ज्योतिष शास्त्र से जुड़ा हुआ है | हस्त रेखा ज्योतिष शाश्त्र के अंतर्गत आता है | मानव जीवन में होने वाले कई बलाव को उसकी कुंडली और कुंडली में होने वाले ग्रह नक्षत्रों के हेर-फेर से होते हैं | जब किसी के ग्रह उसके एक स्थान से दूसरे स्थान में प्रवेश करते हैं, तो उसका अच्छा या बुरा उसके ग्रहों की मजबूती से निर्धारित होता है |

सबसे पहले हम ज्योतिष के बारें में जानते हैं | भारत में कई भगवान हैं, जिनको मानने वाले लोगों की संख्या कम नहीं है | देखा जाए तो कदम-कदम पर भगवान का मंदिर | अब उससे महत्वपूर्ण बात यह है,कि भगवान को मानने के दिन भी निर्धारित किये गए हैं | 7 दिनों में कौन से भगवान को कब माना जाए यह भी ज्योतिष के हिसाब से माना गया है | उसके बाद 9 ग्रह, 12 राशियां,7 दिन, पहर, घड़ी, पक्ष इन सबके मेल है ज्योतिष शास्त्र और पंचाग की मदद से जन्म तारीख और जन्म समय लेकर इंसान की कुंडली बनाई जाती है और उसके बाद उसके ग्रह नक्षत्रों के बारें में उसकी कुंडली देख कर पता चलता है |

Letsdiskuss (Courtesy : Samachar Jagat )

हस्त रेखा :-
हस्त रेखा अर्थात हाथों की रेखा | वैसे तो यह कहा जाता है कि इंसान की किस्मत उसकी हाथों की लकीर में नहीं बल्कि उसके हाथों की मजबूती में होती है | परन्तु हिन्दू धर्म में ज्योतिष शाश्त्र के आधार पर हस्त रेखा का बड़ा ही महत्व है | हमारे हाथों की रेखायें हमारे जीवन का निर्धारण करती है | हाथों में कई ऐसी रेखाएं हैं, जो मनुष्य के जीवन से लेकर उसके मरने तक का लेखा जोखा रखती है | किसके जीवन में कौन सी घटना कब होने वाली है इस बात का पता तो मनुष्य को नहीं चलता परन्तु इसकी सहयता से इस बात का ज्ञान जरूर हो जाता है कि मानव जीवन में घटना होने वाली है जिसके लिए इंसान तैयार रहता है|
ज्योतिष और हस्त रेखा ज्ञान इंसान के जीवन को बहुत प्रभावित करती हैं | इस पर विश्वाश करना चाहिए क्योंकि अगर आप भगवान को मानते हैं तो इसको मानने में कोई बुराई नहीं है |

(Courtesy : AppAdvice )


1
0


ज्योतिष शाश्त्र हाथों की रेखा से जुड़ा हुआ है | ज्योतिष शास्त्र में कुंडली, ग्रह और नक्षत्र का मेल होता है | जहाँ कुंडली होती है, वहां मनुष्य का वर्तमान , भूत और भविष्य काल की सभी जानकारी मिल जाती है | कुंडली में जो भी ग्रह होते हैं, वहीं ग्रह मनुष्य की हस्त रेखा में होते हैं |


हस्त रेखा में भी नौ ग्रह होते हैं | जैसा कुंडली भविष्य बताती है, वैसा ही हस्त रेखा भी मनुष्य का भविष्य बताती है | हस्त रेखा की रेखायें भी मानव के भविष्य को बताती हैं | हाथों में मुख्य 4 रेखा होती है, जो मानव जीवन के बारें में बोध कराती है |

- जीवन रेखा
- मस्तिष्क रेखा
- ह्रदय रेखा
- भाग्य रेखा

Letsdiskuss (Courtesy : Patrika )


0
0

Picture of the author