क्या प्रदूषण से फेफड़ों पर ही नहीं, आंखों पर भी पड़ रहा असर? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


divya chowdary

Blogger | पोस्ट किया |


क्या प्रदूषण से फेफड़ों पर ही नहीं, आंखों पर भी पड़ रहा असर?


0
0




| पोस्ट किया


विशेषज्ञों का कहना है कि प्रदूषण के कारण केवल फेफडो पर ही असर नहीं पड़ रहा है बल्कि इसके कारण आंखों पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है।वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से ड्राई आंख की समस्या यहां आंखों में पानी की गुणवत्ता खराब हो सकती है प्रदूषण के कारण आंखों में खुजली होने की समस्या हो सकती है, और आंखों का लाल होने की समस्या हो सकती है। वायु प्रदूषण के कारण आंखों की कोशिकाएं प्रभावित होती हैं। जिसकी वजह से आंखों में दर्द होने लगता है। इतना ही नहीं प्रदूषण वजह से आंखों की रोशनी जाने की संभावना हो सकती है। इसलिए जब भी घर के बाहर निकले तो अपने मुंह के साथ अपने आंखों को भी ढक कर रखें।Letsdiskuss


0
0

Blogger | पोस्ट किया


अधिक प्रदूषण फेफड़ो के स्वस्थ श्वसन प्रणाली और इसी के साथ साथ आँखों की सेहत के लिए भी हानिकारक होता है। मेदांता हॉस्पिटल के डॉ. सुदीप्तो ने बताया की दिवाली के बाद से आँखों में जलन आदि की समस्या से पीड़ित लोगो की संख्या में इज़ाफ़ा हुआ है। वहीँ फोर्टिस के डॉ. ने कहा की दिवाली के बाद बहुत से मरीज़ आंखों में जलन और सूजन की समस्या को लेकर आते है। ऐसे में प्रदूषण से बचने के लिए हमे ये सावधानी बरतनी चाहिए।

Letsdiskuss

(Credit:- Google)

१. चश्मा लगायें: आँखों को प्रदूषण के हानिकारक असर से बचने के लिए आखों पर चश्मा लगायें, इससे स्मोग के कारन आखों में जलन और चुभन की समस्या नहीं होती है।
२. आँखों को रगड़े नहीं: आँखों को रगड़ने से पानी गिरने और आंखें जलने की समस्या और भी अधिक हो जाती है। इसलिए आंखें रगड़े नहीं।
३. ऑय ड्राप का प्रयोग करें: आंखों के सूख जाने से जलन की समस्या ज़्यादा भर जाती है, आँखों में ऑय ड्राप डालते रहें, इससे आंखें स्वस्थ बनी रहती है।
४. कोल्ड कंप्रेस: जलन को काम करने के लिए कोल्ड कंप्रेस करें, इससे आपकी आँखों को ठंडक मिलती है और इसके लिए आप बर्फ का इस्तेमाल कर सकते है और आँखों पर ठंडा खीरा व् ठंडा रूमाल भी रख सकते है।
Reference: https://www.jansatta.com/lifestyle/side-effects-of-pollution-on-eye-health/822985/
 


0
0

Picture of the author