नया अध्यक्ष नियुक्त करने में कांग्रेस पार्टी को इतना समय क्यों लग रहा है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


abhishek rajput

Net Qualified (A.U.) | पोस्ट किया |


नया अध्यक्ष नियुक्त करने में कांग्रेस पार्टी को इतना समय क्यों लग रहा है?


0
0




student | पोस्ट किया


मैं इसे समझने के लिए बहुत सरल शब्दों में रखूंगा।
कांग्रेस एक निजी फर्म है। इसमें 4 लोग शामिल हैं और सभी लोग इसके कर्मचारी हैं।
इसका नेतृत्व करने वाले चार लोग राहुल बाबा, प्रियंका गांधी, सोनिया गांधी, रॉबर्ट वाड्रा हैं। सुरजेवाला और माकन जैसे अन्य सभी लोग सिर्फ कर्मचारी हैं। अब इस फर्म के पास हमेशा याद रखने के लिए कुछ नियम हैं यानी नेताओं के शब्द सबसे महत्वपूर्ण हैं और जब तक आप उनके जूते चाट रहे होते हैं तब तक आप इस फर्म का हिस्सा होते हैं जिस दिन आपने इसके खिलाफ कहा था कि आप संजय झा होंगे। 
अब कांग्रेस का हर एक व्यक्ति यह जानता है और उनके पास मनमोहन सिंह जी का उदाहरण भी है जो भारतीय अर्थव्यवस्था को दुनिया के लिए खोलने में सक्षम थे, लेकिन फर्म में निर्धारित किसी भी नियम के खिलाफ नहीं जा सके और हम बाकी लोगों को जानते हैं। वे जानते हैं कि वे अधिक सक्षम हैं, लेकिन फिर भी कांग्रेस के अध्यक्ष नहीं होंगे क्योंकि वह सिर्फ एक चेहरा होंगे, उन्हें वही बोलना होगा जो 4 लोग उनसे कहते हैं। वह तब प्रवक्ता थे और अब भी वे कुछ अतिरिक्त उपाधियों के साथ प्रवक्ता बने रहेंगे। 
इसका एक और सरल उदाहरण है
मुझे पूरा यकीन है कि आप उन दोनों को जानते होंगे। उन दोनों ने अपने काम की शुरुआत कार्याकार्ट्स के रूप में की और फिर उन्होंने न्यूज चैनल की बहसों में अपनी पार्टी का प्रतिनिधित्व करना शुरू कर दिया। उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम है, सांबित पात्रा को पुरी से लोकसभा का टिकट दिया गया। वह अंत तक लड़े और एक छोटे अंतर से हार गए। सुधांशु त्रिवेदी अब राज्यसभा से सांसद हैं। 
अब मुझे बताओ।
वे कहां हैं, वे वर्षों से हर जगह अपनी पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं अब लोकसभा और राज्यसभा में एक भी टिकट नहीं दिया गया है। 
यह कांग्रेस में प्रतिभा का मूल्य है।

Letsdiskuss


0
0

student | पोस्ट किया


इनके नये युवराज अभी तैयार हो रहे है अरे वही जिसे बाप का नाम भी नही मिला राबर्ट वाडरा का बेटा रेहान गाधी


0
0

student | पोस्ट किया


ईनको ईनके परीवार का कोई नही मिल रहा है इसलिए 


0
0

Picture of the author