दुनिया के कौन से ऐसे रहस्य हैं, जो आज तक नहीं सुलझे ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Businessman | पोस्ट किया |


दुनिया के कौन से ऐसे रहस्य हैं, जो आज तक नहीं सुलझे ?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


दुनिया में ऐसी कितने रहस्य हैं, जिनको जानने में जितना मज़ा आता है, उतना ही डर भी लगता है | फिर भी लोग ऐसे रहस्य जानने में रूचि रखते हैं | आइये आपको बता दें कि ऐसी कौन से रहस्य हैं, जो आज तक सुलझ नहीं सके |

- द डांसिंग प्लेग ऑफ 1518 :-
जब भी हम द डांसिंग प्लेग ऑफ़ 1518 के बारे में सुनते है, या पढ़ते है तो ऐसा लगता है, जैसे कोई मन घड़ित कहानी हो | परन्तु ये एक ऐसी सच्चाई है, जिसको कहानी कहना जहां गलत है, वही इस कहानी पर विश्वाश करना अविश्वसनीय |

सन 1518 की गर्मियों के दिन थे | स्ट्रासबर्ग शहर की एक महिला ने अचानक से सड़क पर भयानक तरीके से डांस करना शुरू कर दिया | दिन से रात हो गई और वापस रात से सुबह पर उस महिला का नाचना बंद नहीं हुआ | एक हफ्ते के अंदर ही 34 महिलाएं और इसी तरह नाचने लगी | उन सभी को देख कर ऐसा लग रहा था जैसे उन सभी में आत्मा का वास हो गया हो | एक महीने के अंदर 34 से यह गिनती 400 हो गई |

कई डॉक्टर आये और वैज्ञानिक भी पर इस बात को कोई समझ नहीं पाया की आखिर हुआ क्या ? इतना नाचते हुए कई महिलाओं की मौत हो गई | यह एक एपिलेप्सी नाम की सामूहिक मानसिक बीमारी बताई गई | परन्तु अभी तक ऐसी कोई वजह नहीं समझ आई | ये रहस्य ही बन कर रह गया |

Letsdiskuss
- द एस एस ओरंग मेडान :-
सन 1947 जून के महीने में "मलक्का की खाड़ी" से व्यापारिक मार्ग से कई जहाज गुजर रहे थे कि तभी एक SOS संदेश पहुंचा, कि "जहाज के सभी क्रू सदस्यों की मौत हो गई है " जब जहाज के सिग्नल का सोर्स पहचानते हुए क्रू जहाज की तरफ मर्चेन्ट शिप 'द सिल्वल स्टार' पहुंची तो नज़ारा हैरान करने वाला था | क्रू जहाज के सभी सदस्यों की मौत हो चुकी थी और सभी के शव जहाज पर इधर-उधर बिखरे पड़े थे |

मंज़र इतना भयानक था, कि समझ नहीं आया हुआ क्या ? इंसान के साथ-साथ उस जहाज पर सफर कर रहें कुत्ते की भी मौत हो गई | किसी के शरीर में भी कोई चोट के निशान नहीं मिले और किसी की मौत का कारण आज तक नहीं मिला |

द एस एस ओरंग मेडान-letsdiskuss

दुनिया की सबसे ख़तरनाक जगह कौन सी है ? जानने के लिए नीचे link पर Click करें :-


0
0

Picture of the author