मोदी द्वारा सरदार पटेल की मूर्ति को दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति क्यों बनाया जा रहा है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sneha Bhatiya

Student ( Makhan Lal Chaturvedi University ,Bhopal) | पोस्ट किया |


मोदी द्वारा सरदार पटेल की मूर्ति को दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति क्यों बनाया जा रहा है ?


0
0




Delhi Press | पोस्ट किया


सरदार वल्लभ भाई पटेल, भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के बीच एक महान नाम और जवाहर लाल नेहरू के उप प्रधान मंत्री थे, जो "महान पुरुषों" की पूरी तरह से नई कथा में प्रवेश करने जा रहे हैं, क्योंकि उनकी मूर्ति गुजरात में पूरी होने की दिशा में है। यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होने वाली है जोकि दुनिया की वर्तमान सबसे ऊंची मूर्ति जो चीन के वसंत मंदिर में बुद्ध की है, उससे भी अधिक लम्बी होगी ।


Letsdiskuss

लेकिन इस श्रद्धांजलि के पीछे एकमात्र कारण सरदार पटेल का एक महान स्वतंत्रता सेनानी होना ही नहीं है। न तो इसका मकसद भारत में पर्यटन को बढ़ावा देना है (विशेष रूप से गुजरात में)। यह भी कारणों की गिनती में आते हैं, लेकिन इसके अलावा भी बहुत कुछ है। गुजरात में दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बनाई जा रही है, यह एक बिंदु है, और दूसरे बिंदु पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि यह प्रतिमा भारत के प्रधान मंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी के शासन के दौरान बनाई जा रही है।

भारतीय स्वतंत्रता का महान ऐतिहासिक चेहरा, सरदार पटेल सिर्फ एक स्वतंत्रता सेनानी नहीं थे | वह समाजवादी नेहरू के विपरीत पूंजीवादी थे, और उससे भी अधिक, वह "भारत के लौह पुरुष" थे। लौह पुरुष अर्थात आयरन मैन, क्योंकि वह आजादी के बाद भारत के संघ में 562 रियासतों को शामिल करके हमेशा राष्ट्र को एकजुट करना चाहते थे | इस प्रतिमा को प्रसिद्ध रूप से "एकता की मूर्ति" के रूप में प्रचारित किया जा रहा है।

statue-of-unity-letsdiskuss

इसलिए इस संबंध में, दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति, "एकता की मूर्ति", मोदी की राजनीतिक विचारधाराओं की अभिव्यक्ति और "लोहाकरण" है। हम सभी जानते हैं कि कैसे हिन्दू राष्ट्रवाद के धागे के साथ मोदी भारत की एकता को देखते हैं। इसके अलावा, हम सभी जानते हैं कि गुजरात, जहां मोदी पूर्व मुख्यमंत्री थे, उन्हें अक्सर "हिंदू राष्ट्रवाद की प्रयोगशाला" कहा जाता है। इतना ही नहीं, गुजरातियों और गुजरात को अनिवार्य रूप से "उद्यमी" प्रतिष्ठा प्राप्त है | सरदार पटेल की पूंजीवादी विचारधाराओं के साथ 'मेक इन इंडिया', 'स्वच्छ भारत', 'स्मार्ट सिटीज' और 'कौशल भारत' जैसी मोदी की राष्ट्रीय परियोजनाएँ अच्छी तरह तालमेल बैठाती हैं |

Iron-man-of-india-letsdiskuss

यह आश्चर्य की बात नहीं है कि गुजरात, सरदार सरोवर बांध (जहां मूर्ति का निर्माण किया जा रहा है) के आस-पास व्यापक सड़कों के निर्माण के रूप में पर्यटन और विदेशी निवेश के भारी प्रवाह का स्वागत करने के लिए तैयार है। अब भारत की पहचान उस भारतीय व्यक्ति की विचारधारा से जुड़ी होगी, जिसकी मूर्ति "दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति" है। वर्तमान में गांधी या नेहरू जैसे प्रसिद्ध नहीं, पटेल एक नए जीवन के साथ जन्म लेंगे, क्योंकि लोग अब उनके बारे में पढ़ना शुरू करेंगे और उनके बारे में जानेंगे, और इससे नरेंद्र मोदी की हिंदुत्व राजनीति भी सक्षम होगी |


0
0

Picture of the author