प्रतिस्पर्धा करना सही या गलत है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Jessy Chandra

Fashion enthusiast | पोस्ट किया |


प्रतिस्पर्धा करना सही या गलत है?


0
0




Content Writer | पोस्ट किया


प्रतिस्पर्धा करना सही हैं या ग़लत ये तो बाद की बात हैं | पहले ये जानना आवश्यक हैं कि प्रतिस्पर्धा का अर्थ क्या होता हैं ? क्योंकि बहुत से लोग इसका अर्थ नहीं जानते | प्रतिस्पर्धा का अर्थ होता हैं "Competition" अर्थात प्रतियोगिता | कई लोग Competition को सिर्फ़ प्रतियोगिता के नाम से ही जानते हैं |


अब आते हैं आपके सवाल पर - आप जानना चाहते हैं कि प्रतिस्पर्धा अर्थात Competition करना सही हैं या ग़लत ? तो एक बात आपको बता दें ,प्रतियोगिता या प्रतिस्पर्धा ग़लत भी हैं और सही भी | बशर्ते इसका ज्ञान हो कि प्रतियोगिता कौन से विषय पर हो रही हैं | अगर प्रतियोगिता भविष्य में आगे बढ़ने ,या कुछ नया सीखने की हैं तो सही हैं ,और अगर प्रतियोगिता किसी को अपने से छोटा दिखाने की हैं तो ये ग़लत हैं |

पहले समय में प्रतियोगिता सिर्फ़ पढ़ाई,खेल कूद में ही होती थी | जिन लोगों ने पढ़ाई या अच्छे भविष्य के लिए किसी से प्रतियोगिता की हैं,वो हमेशा खुश और सफल हुए हैं |  वर्तमान समय के लोग प्रतियोगिता सिर्फ़ फैशन,कपड़े,जूलरी,मोबाइल फ़ोन,गाड़ियां,पैसा बस इन चीजों में करते हैं |  

प्रतिस्पर्धा अगर अपने लिए हैं तो सही हैं ,और किसी को नीचे दिखने के लिए हैं तो ग़लत हैं | अब आप क्या करते हैं ये आप पर निर्भर करता हैं | 

Letsdiskuss


0
0

Engineer,IBM | पोस्ट किया


प्रतिस्पर्धा करना बिलकुल सही हैं, क्योकि अगर आप प्रतिस्पर्धा नहीं करते तो आप अपनी ज़िंदगी में कभी आगे नहीं बढ़ सकते हैं | ज़िंदगी में प्रतियोगिता होना बहुत जरुरी हैं |

उदाहरण के रूप में -
किसी भी exam को आप और आपके मित्र देते हैं, और आपके मित्र के नंबर अच्छे आते हैं, तो आप उसके लिए बेशक खुश हों परन्तु अपने लिए भी सोचे | एक बात हमेशा ध्यान में रखें आप अगर प्रतिस्पर्धा करना चाहते हैं, तो अपने मित्र और अपने शत्रु दोनों से करें |

एक मित्र आपको आपकी गलती बताएगा और एक शत्रु आपको आपकी गलती को सुधारने में सही राह दिखेगा | क्योकि शत्रु आपको हानि पहुंचा सकता हैं, जो बात आपको प्रतिस्पर्धा में काम आएगी | आप किसी भी काम को सही ढंग से करेंगे |

Letsdiskuss


0
0

Picture of the author