शनि की साढ़े साती का क्या अर्थ है,ये मानव जीवन में किस प्रकार का प्रभाव डालती है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Rohit Valiyan

Cashier ( Kotak Mahindra Bank ) | पोस्ट किया | ज्योतिष


शनि की साढ़े साती का क्या अर्थ है,ये मानव जीवन में किस प्रकार का प्रभाव डालती है ?


0
0




Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | पोस्ट किया


हिन्दू धर्म में ज्योतिष का जितना महत्व हैं, उतना ही ग्रहों का महत्व हैं, आप शनि की साढ़े साती के बारें में जानना चाहता हैं | जैसा की सभी जानते हैं, ज्योतिष के अनुसार 9 ग्रह होते हैं, सबका अपना अलग महत्व होता हैं | 9 ग्रहों में एक शनि ग्रह भी होता हैं, जो सबसे प्रभावशाली होता हैं |


क्या होती हैं शनि की साढ़े साती ?

ज्योतिष के अनुसार जितने भी ग्रह हैं, वो सभी मनुष्य की राशि पर एक के बाद एक आते हैं, और सभी का अपना अपना निश्चित समय होता हैं, पर इन ग्रहों का प्रभाव हर राशियों पर अलग होता हैं | वैसे ही शनि ग्रह भी जब किसी मनुष्य की राशि पर आता हैं, तो उसका समय ढाई साल होता हैं या साढ़े सात साल होता हैं | अगर राशि पर शनि साढ़े सात के लिए होता हैं, तो उसको शनि की साढ़े साती कहते हैं, और अगर ढाई साल के लिए होता हैं, तो उसको शनि की ढैय्या कहते हैं |

मानव जीवन पर प्रभाव :-

शनि की साढ़े साती का मानव जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता हैं | अब वो प्रभाव अच्छा होगा या बुरा ये आपकी राशि में उपस्थित और ग्रहों की स्थिति से अनुसार होता हैं |

- अगर शनि का प्रभाव मनुष्य पर अच्छा होगा, तो वो हमेशा राजा की ज़िंदगी जियेगा, और वहीँ बुरा प्रभाव मनुष्य को रंक की ज़िंदगी भी दे सकता हैं |

- शनि का अच्छा प्रभाव मनुष्य को हमेशा स्वस्थ और निरोगी रखता हैं, वही बुरा प्रभाव मनुष्य के जीवन को रोग से भर सकता हैं |

- शनि का अच्छा प्रभाव मनुष्य के जीवन में सुख सुविधाओं का आगमन करवाता हैं, और बुरा प्रभाव मनुष्य को सिवा दुःख के और कुछ नहीं देता |

अगर आप की राशि पर शनि की साढ़े साती हैं, और आपको कष्ट का अनुभव हो रहा हैं, तो आप शनि का उपाय भी कर सकते हैं, इससे आपको आने वाली परेशानी कम हो जाती हैं |

उपाय :-

- हर शनिवार सुबह सूर्य की उगने से पहले पीपल पर जल चढ़ाओ और फिर सरसों तेल का दिया लगाओ |

- शनिवार रात को सूर्य के ढलने के बाद सरसों तेल का दिया लगाओ |

- पीपल पर थोड़ा सा सरसों तेल,और काली तिल चढ़ाओ, और उस पर रक्षासूत्र बांधों |

- आप ये सब काम सूर्य के उगने से पहले करें , और सूरज ढलने के बाद सिर्फ पीपल पर दिया जलाएं |

- अगर आप किसी कारणवश सूर्य निकलने से पहले ये सब नहीं कर सकते तो आप सूर्य निकलने के बाद सिर्फ पीपल में जल चढ़ा सकते हैं, और दिया रात में सूरज ढलने के बाद जला सकते हैं |

Letsdiskuss

जिन पर शनि की साढ़े-साती चल रही हो,उनको शनिवार को कौन से काम नहीं करने चाहिए ?


0
0

Picture of the author