अर्ध रात्रि में क्या-क्या नहीं करना चाहिए? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Krishna Patel

| पोस्ट किया | शिक्षा


अर्ध रात्रि में क्या-क्या नहीं करना चाहिए?


38
0




| पोस्ट किया


ऐसे लोग भी होते है, जो रात्रि मे सोना चाहते है, लेकिन उन्हें रात्रि मे नीद नहीं आती है जिसके कारण वह अर्धरात्रि को उन्हें बैचैनी सी महसूस होती है और वह अपनी बेचैनी दूर करने के लिए अर्धरात्रि के समय सिगरेट पिने लगते है, अर्धरात्रि के समय सिगरेट नहीं पिना चाहिए इससे सेहत पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है।

इसके अलावा कुछ लोगो को रात्रि के समय नीद नहीं आती है तो वह अच्छी नीद के लिए अर्धरात्रि के समय ही उठकर शराब पिने लगते है ताकि उन्हें अच्छी नीद आ जाये क्योंकि शराब मे नशा होता है, शराब के नशे मे नीद अच्छी आती है लेकिन सुबह उतनी ही ज्यादा खराब जाएगी क्योंकि शराब पिने के बाद सर मे दर्द, सीने मे जलन होती है वह धीरे -धीरे आपकी सेहत के लिए बहुत ही नुकसानदायक होती है।

Letsdiskuss

और पढ़े- सेब खाने के बाद क्या-क्या नहीं खाना चाहिए?


21
0

Occupation | पोस्ट किया


रात के 12 बजे से 3बजे के बीच के समय को माध्यरात्रि या अर्ध रात्रि कहते है। अर्ध रात्रि मे भोजन करना, ध्यान करना,स्नान करना सख्त माना होता है यदि आप अर्ध रात्रि मे भोजन, स्नान करते है तो आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। यदि आप अर्धरात्रि मे किसी चीज को लेकर सच्चे मन से प्रार्थना करते है, तो आपको उसका फल प्राप्त होगा।

Letsdiskuss

और पढ़े- शिवरात्रि के दिन किन चीज़ों का सेवन वर्जित है ?


21
0

| पोस्ट किया


दोस्तों आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि आज रात्रि में कौन से काम नहीं करने चाहिए पहले तो हम आपको बता दें कि आज रात्रि कितने बजे से की होती है हम सभी को पता है कि आज रात्रि 12:00 बजे होती है लेकिन आज रात्रि 12:00 बजे से 3:00 तक की मानी जाती है इस समय नकारात्मक ऊर्जा प्रबल होती है इसीलिए ज्यादातर टोना टोटका करने वाले लोग आधरात्रि को ही पूजा करते हैं। लेकिन कभी भी रात्रि के समय एक भोजन, स्नान और ध्यान कभी नहीं करना चाहिए
मध्य रात्रि में धूम्रपान भी नहीं करना चाहिए यदि आप धूम्रपान करते हैं तो रात्रि के समय शरीर और दिमाग दोनों को आराम नहीं मिलता है जिससे नींद पर बुरा असर पड़ता है। मध्य रात्रि में कई मसालेदार चीज भी नहीं खाना चाहिए क्योंकि इससे पेट से जुड़ी समस्या हो सकती है जिसके कारण की आपको नींद नहीं आएगी मध्य रात्रि के समय मीठे स्नेक्स भी नहीं खाने चाहिए क्योंकि मीठे स्नेक्स में कैलोरी की मात्रा अधिक होती है
जिसके कारण वेट भी बढ़ सकता है।

Letsdiskuss


21
0

| पोस्ट किया


आइये दोस्तों आज हम आपको बताते हैं कि हमें अर्ध रात्रि के समय क्या-क्या नहीं करना चाहिए आपने देखा होगा की बहुत से लोग सो कर उठते हैं तो सिगरेट पीने लगते हैं तो मैं उनको बताना चाहती हूं की अर्धरात्रि के समय कभी भी सिगरेट नहीं पीनी चाहिए क्योंकि रात्रि के समय में सिगरेट पीने से सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ता है, इसके अलावा हमें अर्धरात्रि के समय मीठे स्नेक्स का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि मीठे स्नेक्स में कैलोरी की मात्रा अधिक होती है ऐसे में मोटापा बढ़ाने का खतरा बढ़ जाता है, हमें अर्ध रात्रि के समय में भोजन नहीं करना चाहिए और नहाना भी नहीं चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हमारी सेहत पर काफी बुरा असर पड़ता है अब तो आपको पता चल ही गया होगा की अर्धरात्रि के समय क्या-क्या नहीं करना चाहिए।

Letsdiskuss


18
0

| पोस्ट किया


अर्ध रात्रि में क्या क्या नहीं करना चाहिए रात को तीसरे पायर को त्रियता कहते हैं जो 12:00 बजे से रात 3:00 के बाद का होता हैं इसे मध्यरात्रि भी कहते हैं यह समय पूर्ण विश्राम का होता है इस प्रहर भोजन और स्नान यह ध्यान करना वर्जित है अर्थात ज्योतिष विज्ञान एंव आध्यात्मिक के आधार पर उपरोक्त प्रहर या वेला सभी जनमानस को आमतौर पर इसका ध्यान रखना चाहिए किसी चीज को लेकर सच्चे मन से प्रार्थना करना तो आपको उसका फल प्राप्त होगा जिसके कारण की उसको नींद नहीं आएगी मध्यरात्रि के समय मीठे स्नेह भी नहीं खाना चाहिए इसके अलावा कुछ लोगों को यात्री में नींद आती है तो वह अच्छी नींद के लिए इस समय नकारात्मक ऊर्जा प्रबल होती है इसलिए ज्यादातर टोन टोटका करने वाले लोग अर्धरात्रि को ही पूजा करते हैं उन्हें बेचैनी आपकी सेहत के लिए बहुत में से नुकसानदायक है Letsdiskuss


18
0

| पोस्ट किया


आज हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे कि अर्ध रात्रि यानी की आधी रात को हमें क्या-क्या नहीं करना चाहिए। आपने देखा होगा कि ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिनको रात में नींद नहीं आती है। तो उठकर रात को सिगरेट पीने लगते हैं तो मैं उनको बताना चाहती हूं कि रात के समय सिगरेट नहीं पीना चाहिए क्योंकि इससे आपके शरीर को काफी नुकसान हो सकता है यानी कि सिगरेट पीने से फेफड़ों में धुआं भर जाता है और हमारा फेफड़ा बिल्कुल डैमेज हो जाता है इसके अलावा अर्ध रात्रि को उठकर भोजन नहीं करना चाहिए क्योंकि अर्धरात्रि में भोजन करने से पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है , रात्रि को स्नान नहीं करना चाहिए। इसके अलावा अर्ध रात्रि को भगवान जी की पूजा पाठ भी नहीं करनी चाहिए क्योंकि अर्धरात्रि में भूतों का राज चलता है । मैं आपको बता दूं कि यदि आप अर्धरात्रि के समय मीठे स्नेक्स खाते हैं तो आप ऐसा करना आज से ही बंद कर दे क्योंकि रात के समय मीठे स्नैक्स के सेवन से मोटापा की समस्या होती है क्योंकि मीठे स्नेक्स कैलोरी की अधिक मात्रा पाई जाती है।Letsdiskuss


17
0

');