राजस्थान के मेहंदीपुर बालाजी मंदिर का रहस्य क्या था? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

blogger | पोस्ट किया |


राजस्थान के मेहंदीपुर बालाजी मंदिर का रहस्य क्या था?


0
0




Blogger | पोस्ट किया


सनातन धर्म में मंदिरो की बड़ी महिमा बनी रही है और कुछ मंदिर तो वास्तव में चमत्कार से कम नहीं है। ऐसा ही एक मंदिर है राजस्थान का मेहंदीपुर बालाजी मंदिर। इस मंदिर में हनुमानजी की बाल स्वरुप प्रतिमा की पूजा होती है। हनुमानजी के साथ यहां पर कप्तान भैरव और प्रेतराज की प्रतिमा भी है। ऐसा माना जाता है की जो भी इंसान भुत-प्रेत से परेशान हो उसे यहां लाने से दुष्टात्मा उस के शरीर को त्याग देती है।

Letsdiskuss सौजन्य: पंजाब केसरी 

यहाँ वैसे तो किसी भी प्रकार का भोग या प्रसाद चढ़ाना मना है, लोग उड़द और चावल के लड्डू चढ़ाते है। यहां का प्रसाद या कोई भी खाने पिने की चीज घर पर ले जाना मन है और जो यह बात नहीं मानता उसे नुकसान उठाना पड़ता है।

इस मंदिर में बाल हनुमान की मूर्ति स्वयंभू है और इस प्रतिमा की छाती में बायीं और एक छिद्र है जिस में से जलधारा बहती रहती है जिसे भक्त चरणामृत मानकर स्वीकार करते है। यह मंदिर हालमे राजस्थान के दौसा में है जो की दिल्ली से 300 किलोमीटर दूर है। यहां पर हनुमानजी और भैरव का बुरी शक्तियों पर प्रभाव देखा जा सकता है और जो लोग इस में यकीन नहीं करते वो भी यहाँ का नजारा देखकर यकीन करने पर विवश हो जाते है। वैसे तो मूर्ति हजारो साल पुरानी मानी जाती है मंदिर को पिछली सड़ी में ही बनाया गया है।



0
0

Picture of the author