बंगाल में घूमने के लिए कौन - कौन सी जगह है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Rohit Valiyan

Cashier ( Kotak Mahindra Bank ) | पोस्ट किया |


बंगाल में घूमने के लिए कौन - कौन सी जगह है?


0
0




| पोस्ट किया


आज हम आपको बंगाल में घूमने के लिए उन जगहों के बारे में बताते हैं जो यहां पर सबसे अधिक प्रसिद्ध है।

दक्षिणेश्वर काली मंदिर :-

  पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता मे स्थित विवेकानंद पुल के पास हुगली नदी के किनारे दक्षिणेश्वर काली माता का मंदिर स्थित है इस मंदिर को हिंदुओं का तीर्थ स्थल माना जाता है यह मंदिर भारत के सभी मंदिरों सेेेेेेेे अधिक विख्यात  है इस मंदिर में काली मां की पूजा की जाती है। इस मंदिर को देखनेेे के   लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

बॉटनिकल गार्डन ऑफ इंडिया :-

बंगाल में  यह बॉटनिकल गार्डन सबसे खूबसूरत गार्डन है यह गार्डन हजारों एकड़ जमीन पर फैला हुआ है। यहांंंं की हरियाली और फूलो की खुशबू सभी के मन को मोह लेती है।

 इसी प्रकार बंगाल में ऐसी कई जगह है जहां पर आप घूमने जा सकते हैं।Letsdiskuss


0
0

Content writer | पोस्ट किया


भारत के पूर्वी भाग में स्थित पश्चिम बंगाल राज्य संस्कृति और परम्परा में समृद्ध है, और अक्सर इस जगह पर लोग गर्मियों की छुट्टियां बताना पसंद करते है । इस राज्य को भारत की सांस्कृतिक राजधानी के रुप में भी जाना जाता है और इस राज्य का अपना गौरवशाली इतिहास है और ये स्थान ऐसे कवियों, चित्रकारों, फिल्मकारों और विद्वानों से सम्बंधित है जिन्होंने दुनियाभर में ख्याति प्राप्त की। तो अगर आप भी कर रहे है प्लान इन गर्मियों की छुट्टियों में तो इन जगहों पर जरूर जाएँ |

Letsdiskusscourtesy-tripadvisor

- विक्टोरिया मेमोरियल –
कोलकाता में स्थित ये सफेद रंग का भवन ब्रिटिश राज के अंतिम दिनों में बनाया गया था और इसे वास्तुकला का आलीशान और अनूठा नमूना कहा जाता है।




- बंगीय साहित्य परिषद् –
बंगाल की सांस्कृतिक और पारम्परिक विरासत के अवशेषों को संभालने का कार्य ये परिषद् करता है। इसकी स्थापना 1910 में की गयी थी। हर पर्यटक एक बार यहाँ जरूर जाता है क्योंकि यह जगह बंगाल की सांस्कृतिक यात्रा से रूबरू करवाता है।




- शाहिद मीनार –
शाहिद मीनार एक ऐतिहासिक स्मारक है जो साल 1848 में बनवाया गया था और ये स्मारक 1814 से 1816 तक चले नेपाल युद्ध में विजय का प्रतीक भी माना जाता  है। इसे शहीद स्तम्भ भी कहा जाता है साथ ही इस स्मारक को युद्ध में अपने जीवन को बलिदान करने वाले शहीदों को समर्पित है।





0
0

Picture of the author