हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान विष्णु का -सुदर्शन चक्र- कितना शक्तिशाली है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


abhishek rajput

Net Qualified (A.U.) | पोस्ट किया |


हिंदू धर्म के अनुसार, भगवान विष्णु का -सुदर्शन चक्र- कितना शक्तिशाली है?


0
0




Occupation | पोस्ट किया


हिन्दू धर्म क़े अनुसार भगवान विष्णु का सुदर्शन चक्र अन्य संसार क़े अन्य चक्रो की तुलना मे  भगवान विष्णु का सुदर्शन चक्र सबसे शक्तिशाली चक्र माना जाता है, यह चक्र भगवान शिव ने विष्णु जी को दिया था।

 भगवान विष्णु एक बार भगवान शिव जी की पूजा करने लिए काशी गए हुए थे,काशी मे मणिकार्णिका घाट मे विष्णु भगवान स्नान करने क़े बाद उहोने यह प्रण लिया की 1हज़ार स्वर्ण कमल क़े फूलो को भगवान शिव को चढ़ाकर उनकी पूजा करेंगे, तभी भगवान शिव ने विष्णु जी की परीक्षा लेने क़े लिए 1हज़ार फूलो मे एक फूल कम कर दिया और विष्णु भगवान ने देखा की एक फूल कैसे कम पड़ा और उनका संकल्प टूटने लगा तभी उन्होंने एक फूल क़े बदले अपनी आंख निकल कर भगवान शिव क़े सामनेचढ़ाने लगे तभी भगवान शिव स्वयं प्रकट हुए और बोले आज मुझे पता चला इस संसार मे तुमसे बड़ा भक्त मेरा कोई नहीं है मै तुम्हारी भक्ति से बहुत पसंद होकर विष्णु जी को सुदर्शन चक्र दिया और उनको यह वरदान दिया कि तीनो लोको मे इस चक्र की बराबरी करने वाला कोई अस्त्र नहीं होगा, इस चक्र से अकेले ही हर एक रक्षसो का वध करने मे सक्षम है।

Letsdiskuss


0
0

| पोस्ट किया


हिंदू धर्म के अनुसार माना जाता है कि भगवान विष्णु का सुदर्शन चक्र अन्य सभी चक्रों से अत्यधिक शक्तिशाली होता है क्योंकि इस चक्र को भगवान शिव जी ने भगवान विष्णु को प्रदान किया था।

 पौराणिक कथा के अनुसार एक बार भगवान विष्णु, भगवान शिव की पूजा करने काशी गए थे। वहां मणिकर्णिका घाट पर स्नान कर विष्णु ने 1000 स्वर्ण कमल  फूलों से  भगवान शिव का पूजन करने का संकल्प लिया था। भगवान शिव ने भी भगवान विष्णु की शक्ति की परीक्षा लेने के लिए 1000 पुष्प कमलों में से एक पुष्प को कम कर दिया था और जब भगवान विष्णु ने पुष्प पाया तो अपनी एक आंख भगवान शिव को अर्पित करने का संकल्प लिया क्योंकि भगवान विष्णु की आंख को कमल के समान सुंदर कहा गया था इसलिए उन्होंने ये संकल्प लिया। और तभी भगवान शिव वहां पर प्रकट हुए और कहा कि तुम से बड़ा भक्त इस दुनिया में मेरा कोई नहीं है इसलिए उन्होंने भगवान विष्णु की भक्ति से प्रसन्न होकर उन्हें सुदर्शन चक्र प्रदान कर दिए।Letsdiskuss


0
0

Picture of the author