दीपिका पादुकोण द्वारा जेएनयू जाकर प्रदर्शनकारियों का साथ देने को आप कैसे देखते हैं ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Sneha Bhatiya

Student ( Makhan Lal Chaturvedi University ,Bhopal) | पोस्ट किया |


दीपिका पादुकोण द्वारा जेएनयू जाकर प्रदर्शनकारियों का साथ देने को आप कैसे देखते हैं ?


0
0




Blogger | पोस्ट किया


इस जवाब को देने से पहले मैं आपको कुछ समय पीछे ले कर जाना चाहूँगी जब ‘पद्मावत’ फ़िल्म आने वाली थी। दीपिका जी को करनी सेना की तरफ़ से बहुत धमकियाँ मिली थी। बहुत हाहाकर मचा था। परन्तु दीपिका जी को इस बात का बहुत फ़ायदा मिला। कहते हैं ना ‘ब्लेसिंग इन डिसगाइस’ बिलकुल वो इनके साथ हुआ।

सब कलाकार जानते हैं कि प्रचार चाहे बुरा हो, पर नाम तो हो जाता है। अब हमेशा ख़ुद को एक सीधी, अच्छी, नाप-टोल कर बोलने वाली, दीपिका जी को मीडिया के सामने खेलना आता है। 



0
0

Content writer | पोस्ट किया


इन दिनों दीपिका पादुकोण ख़बरों का हिस्सा बनी हुई है और हर तरफ छायी हुई है | जिसका कारण यह है की जेएनयू हिंसा के खिलाफ छात्रों के समर्थन में उतरीं दीपिका के कदम की एक तरफ जहां जमकर तारीफ हो रही है, वहीं दूसरी तरफ उनके खिलाफ विरोध भी हो रहा हैं | लगातार सोशल मीडिया पर दीपिका को ले कर मिक्स रिएक्शंस आ रहे है | सपोर्ट दीपिका से लेकर बॉयकॉट छपाक तक ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं और इस लड़ाई में नेताओं से लेकर बॉलीवुड सितारे सब उतर आए हैं, साथ ही सबने अपनी अपनी प्रतिक्रियाएं दी है |



यहाँ तक की कई लोगों ने दीपिका का जेएनयू कैंपस में जाने को मात्र एक पब्लिसिटी स्टंट बताया | बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने दीपिका के इस कदम की सराहना करते हुए लोगों से दीपिका की आने वाली फिल्म छपाक देखकर जेएनयू हिंसा के खिलाफ अपना समर्थन देने की अपील की वही दूसरी तरह कन्हैया कुमार ने पूरे मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बताया की हमे दुःख है की आपको सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा है मगर आप यहाँ तक आयी आपके इस साहस के लिए आपको इतिहास में हर कोई याद रखेगा |


इस पूरे मामले की गंभीरता देखते हुए हमारा भी यही मानना है की वाक्य दीपिका पादुकोण का जेएनयू तक जाना एक सराहना भरा कदम है इससे छात्रों को मज़बूती और साहस का एहसास होगा की हाँ वह अकेले नहीं है और देश के बड़े बड़े नामी और चर्चित लोग अगर वहां तक उन छात्र छात्रों से मिलने आ रहें है तो कही न कही उनका ये कदम बिलकुल ठीक है |


Letsdiskuss



0
0

Picture of the author