वैशाख पूर्णिमा का क्या महत्व है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Marketing Manager | पोस्ट किया | ज्योतिष


वैशाख पूर्णिमा का क्या महत्व है?


0
0




Blogger | पोस्ट किया


वैसे तो हिन्दू धर्म में सभी पर्वों को अपना अपना महत्व है| वैसे ही वैशाख पूर्णिमा का भी बहुत बड़ा महत्व है| इस दिन दान-पुण्य और धर्म-कर्म करना बहुत शुभकारी होता है| वैशाख पूर्णिमा को सत्य विनायक पूर्णिमा भी कहा जाता है| इस दिन भगवान विष्णु का तेइसवां अवतार महात्मा बुद्ध के रूप में धरती में जन्मा था| इसलिए बौद्ध धर्म के अनुयायी इस दिन को बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं| पूर्णिमा हर महीने में एक बार आती है और सभी पूर्णिमा का अपना एक महत्व होता है|


Letsdiskuss (इमेज -गूगल) 


इस दिन भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है और कई लोग पूर्णिमा का व्रत भी लेते हैं| पूर्णिमा की पूजा शाम के समय होती है और उसके बाद रात को चन्द्रमा के पूजन के साथ इस व्रत को संपन्न किया जाता है| इस पूर्णिमा व्रत की पूजा विधि साधारण पूजा जैसी ही होती है| लेकिन इस दिन कुछ कार्य हैं जो अलग किये जाते हैं:


- वैशाख पूर्णिमा के दिन प्रातः काल सूर्योदय से पहले किसी पवित्र नदी, जलाशय, कुआं में स्नान करना चाहिए|


- इस दिन पीले रंग के वस्त्र पहने और उसके बाद पूजन करें|


- स्नान के बाद सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य देव को जल चढ़ाना चाहिए|


- इसके बाद व्रत का संकल्प लेकर भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए|


- पूजा में पीले फूलों के प्रयोग करें, चावल के साथ हल्दी का प्रयोग करें|


- चने की दाल और गुड को भोग लगाएं


- इस दिन जल से भरा कलश और पकवान दान देने से गोदान के समान फल मिलता है|


- इसके बाद 5 या 7 जरुरतमंद व्यक्तियों को शक्कर और तिल देने से पापों का नाश होता है|


- पूजा के समय इस दिन तिल के तेल के दीपक जलना चाहिए|


- रात को चंद्रमा के पूजन के बाद भोजन करना चाहिए|


वैशाख पूर्णिमा का महत्व :


वैशाख पूर्णिमा पर धर्मराज युधिष्ठिर की पूजा करने का विधान है, जो भी इस व्रत को करता है उसको अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है| कुछ लोगों की मान्यता है कि सुदामा इस दिन भगवान श्री कृष्ण से मिलने गए थे और उसके बाद सुदामा की सारी दरिद्रता दूर हुई| 



0
0

Picture of the author