हनुमान जयंती पर कौन से काम नहीं करना चाहिए ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


अनीता कुमारी

Home maker | पोस्ट किया | ज्योतिष


हनुमान जयंती पर कौन से काम नहीं करना चाहिए ?


0
0




Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | पोस्ट किया


कहते हैं आज भी इस धरती पर हनुमान जी मौजूद हैं, क्योकि भगवान राम ने हनुमानजी को कहा था कि वो इस धरती में कलयुग तक रहेंगे । इसलिए कहते हैं धरती में पाप बढ़ गया मगर फिर भी धरती थमी है , इसका मतलब यह है कि आप भी भगवान का अस्तित्व दुनिया में है । हनुमान जयंती जो कि 19 अप्रैल 2019 को है , इस दिन हनुमान जी ने केसरी और माँ अंजनी के घर जन्म लिए । इसलिए हनुमान जी को अंजनी पुत्र केसरी नंदन भी कहते हैं । हनुमानजी भगवान शिव का 11 महारुद्रावतार है ।


उनके जन्मदिन पर उनके पूजन से जुड़े कुछ ऐसे काम के बारें में आपको बताते हैं जो आपके लिए लाभदायक हैं और कई बार हानिकारक भी -


- हनुमान जी का पसंद का रंग लाल है, पूजा के समय इस बात का विशेष ध्यान दें कि सफ़ेद या काले रंग को पहनकर पूजन न करें और साथ ही पूजा में लाल रंग के फूल का प्रयोग करें । पूजन के समय हनुमान जी को लाल रंग के कपड़े अर्पित करें । अगर आप पूजा के समय सफ़ेद या काले रंग के कपड़े पहनते हैं तो इसका नकारात्मक असर पड़ सकता है । अगर आप पूजन के समय लाल रया पीले रंग के कपड़े पहने तो इससे आपकी पूजा का सकारात्मक असर होगा ।

Letsdiskuss (Courtesy : samacharjagat )

- कुछ लोग हर मंगलवार और हनुमान जयंती का व्रत रखते हैं । जो लोग हनुमान जी का व्रत रखते हैं उन्हें व्रत के दिन नमक का सेवन नहीं करना चाहिए, और साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि जो भी वस्तु आप दान में दे देते हैं उसमें चाहे प्रसाद भी क्यों न हो उसका सेवन आपको नहीं करना है ।

- जब भी आप हनुमान जी की आराधना करें तो इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखें कि आराधना करने का स्थान शांत हो । आपको किसी प्रकार से कोई क्रोध न आ रहा हो और न ही आपका मन अशांत हो । अगर आप इस तरह हनुमान जी की आराधना करते हैं तो इससे हनुमान जी प्रसन्न नहीं होंगे बल्कि उसका असर गलत हो सकता है ।

- हनुमानजी के पूजन में इस बात का ध्यान रखें कि उन्हें कभी चरणामृत नहीं चढ़ता । मास मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए और हनुमान जी की खंडित मूर्ति का पूजन नहीं करना चाहिए ।

- महिलाओं को हनुमान जी को छूना वर्जित होता है, अगर कोई महिला हनुमान जी की आराधना करना चाहती हैं, तो वह दूर रहकर उनका पूजन कर सकती है । हनुमान चालीसा पढ़ सकती हैं परन्तु हनुमान जी के न तो समीप जाकर और न ही उनके सामने खड़े होकर । महिलाओं को हमेशा हनुमान जी की मूर्ति के साइड में दूर खड़े होकर उनकी आराधना करना चाहिए ।

(Courtesy : Minorities Of Kashmir )



0
0

Picture of the author