विदेशों के प्रसिद्ध गुरुद्वारे (Famous Gurudwaras Outside India) कौन से है ? - Letsdiskuss
img
Download LetsDiskuss App

It's Free

LOGO
गेलरी
Advertise Your Business
प्रश्न पूछे

Medha Kapoor

B.A. (Journalism & Mass Communication) | पोस्ट किया 04 Dec, 2019 |

विदेशों के प्रसिद्ध गुरुद्वारे (Famous Gurudwaras Outside India) कौन से है ?

Vivan Vatena

student in journalism | पोस्ट किया 09 Dec, 2019

गुरुद्वारा बंगला साहिब, दिल्ली

गुरुद्वारा बंगला साहिब दिल्ली में है. सन् 1664 में गुरु हरकृष्ण देव जी के सम्मान में इसका निर्माण किया गया था. इस गुरुद्वारे के प्रांगण में स्थित तालाब के पानी को अमृत के समान जीवनदायी और पवित्र माना जाता है. इस गुरुद्वारे में सिखों के इतिहास को दर्शाता एक म्यूजियम भी है. यहां गुंबद सोने का है और फिलहाल अंदर के दरबार को भी सोने से ढका जा रहा है.


pooja mishra

Content writer | पोस्ट किया 04 Dec, 2019

गुरुद्वारा का अर्थ है गुरु तक पहुंचने का द्वार। भारत में हजारों गुरुद्वारे हैं, जहां लोग जाकर मत्था टेकते हैं। लेकिन देश के साथ- साथ विदेशों में भी कई ऐसे गुरुद्वारे हैं जो काफी फेमस हैँ। जहाँ दर्शन करने से इंसान के सभी पाप खत्म हों जाते है और उसे मनचाहा फल मिलता है | विदेशों के ये फेमस गुरूद्वारे पूरे विश्व में सबसे नामचीन है |


image credit-TOI

गुरु नानक दरबार, दुबई- Guru Nanak Darbar, Dubai
दुबई से करीब 25 किलोमीटर दूर जबेल अली में स्थित एक बहुत ही प्रसिद्ध गुरुद्वारा है।
गुरुद्वारा के द्वार 17 जनवरी 2012 को खोले गए थे। यह इटालियन संगमरमर के पत्थर से बनाया गया है। गुरुद्वारे में पाँच सितारा रसोई है।


गुरुद्वारा दरबार साहिब, करतारपुर- Gurdwara Darbar Sahib, Kartarpur
गुरुद्वारा दरबार साहिब, जिसे करतारपुर साहिब भी कहा जाता है, करतारपुर, पाकिस्तान में स्थित एक गुरुद्वारा है। ऐसा माना जाता है कि 22 सितंबर 1539 को गुरु नानक देव जी ने यहां अंतिम सांस ली।
गुरुद्वारा अपने स्थान के कारण महत्वपूर्ण है क्योंकि यह पाकिस्तान और भारत की सीमा के पास बना हुआ है |


श्री गुरु सिंह सभा गुरुद्वारा, लंदन- Gurdwara Sri Guru Singh Sabha, London
भारत से बाहर सिखों का सबसे बड़ा गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा गुरुद्वारा लंदन में है। लंदन के साउथॉल इलाक़े में बने इस गुरुद्वारे का निर्माण ब्रिटिश सिख समुदाय ने कराया था।
गुरुद्वारा का निर्माण मार्च 2000 में शुरू हुआ था। 30 मार्च 2003 को श्रद्धालुओं के लिए गुरुद्वारे के द्वार खोल दिए गए।