हस्तरेखा के कौन से निशान देखकर ये पता लगा सकते हैं, कि आप भाग्यशाली है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Ajeet Raturi

Chef (REDFORT CHINA BEIJING ) | पोस्ट किया | ज्योतिष


हस्तरेखा के कौन से निशान देखकर ये पता लगा सकते हैं, कि आप भाग्यशाली है ?


0
0




Astrologer,Shiv shakti Jyotish Kendra | पोस्ट किया


ज्योतिष शास्त्र में कई ऐसे तथ्य हैं, जो मानव जीवन को प्रभावित करते हैं | भारतीय ज्योतिष में सबसे पहले कुंडली, पंचाग , अंक गणित और हस्त रेखा ये चीज़ें बहुत ही महत्वपूर्ण है | आज आपको हस्त रेखा के बारें में बताते हैं | हस्त रेखा ज्योतिष का एक ऐसा भाग है, जो सभी लोग मानते हैं | कुछ लोग ज्योतिष पर भरोसा करते हैं, और कुछ नहीं करते हैं | परन्तु हस्त रेखा एक ऐसा ज्योतिष का भाग है, जिसमें अधिकतर लोग भरोसा करते हैं |

 

आपको बता दें मनुष्य के हाथ में ऐसी कुछ रेखा होती है जो आपके भाग्य को बताती है | ज्योतिष में समुद्रशास्त्र के अनुसार किसी भी व्यक्ति के हाथ में कुछ खास तरह के निशान बनते हैं, जो कि मनुष्य के अच्छे और बुरे दोनों समय का संकेत देती है | हाथों में कई तरह की रेखाएं होती है जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण जीवन रेखा, ह्रदय रेखा और भाग्य रेखा होती है | इन तीनो रेखाओं का अपना अलग-अलग महत्त्व होता होता है |
 
 
आपकी हथेली पर भाग्य वाली रेखाएं :-
- अगर आपके हाथ में भाग्य रेखा मणिबंध (हथेली का नीचे का हिस्सा) से शुरू होकर शनि पर्वत (अंगूठे के तरफ से तीसरी ऊँगली) पर मिलती है तो ऐसे लोग भाग्यशाली होते हैं |
 
- जिसके हाथों में भाग्य रेखा चंद्रमा के क्षेत्र(हथेली की सबसे छोटी ऊँगली के नीचे का स्थान) से शुरू होती हैं, ऐसे लोगों का काम हमेशा सफल होता है और ऐसे लोगों को जीवन में बहुत मान-सम्मान प्राप्त होता है |
 
- जिनकी भाग्य रेखा उनके जीवन रेखा से शुरू होती है, तो ऐसे व्यक्ति के जीवन में कभी धन की कमी नहीं होती और न ही उनके जीवन में किसी प्रकार की परेशानी आती है |
 
- वैसे ऐसा होना कुछ नामुमकिन सा लगता है, मगर फिर भी अगर किसी की हथेली में दो भाग्य रेखा होती हैं, वह व्यक्ति जीवन में बहुत भाग्यशाली होता है | ऐसे व्यक्ति के जीवन में कभी भी और किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं आ सकती |
 
यह कुछ हस्त रेखा के तथ्य है, जो मानव जीवन को भाग्यशाली बनाते हैं |
 
Letsdiskuss
 
 
 


0
0

Picture of the author