क्या हनुमान चालीसा पढ़ने से चमत्कार होता है, क्या आपने कभी ऐसा अनुभव किया है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Krishna Patel

| पोस्ट किया |


क्या हनुमान चालीसा पढ़ने से चमत्कार होता है, क्या आपने कभी ऐसा अनुभव किया है?


2
0




Preetipatelpreetipatel1050@gmail.com | पोस्ट किया


जैसा कि हम सब जानते हैं कि हनुमान जी बहुत ही शक्तिशाली है उनके चालीसा का पाठ करने से कोई भी नकारात्मक ऊर्जा हमारे घर में प्रवेश नहीं कर पाती है। लेकिन मैं तो यह नहीं कह सकती कि अनुमान चालीसा पढ़ने से कोई चमत्कार होता है। लेकिन हनुमान चालीसा का डेली पाठ करने से घर में सुख- शांति समृद्धि आती है। हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ने से घर के सारे दुख और संकट दूर होते हैं। अगर घर में किसी भूत पिशाच का वास होता है तो हनुमान चालीसा पढ़ने से वह बाधा जल्दी दूर हो जाती है। हनुमान चालीसा पढ़ने से सकारात्मक ऊर्जा घर में बास करती हैं।Letsdiskuss


1
0


हनुमान चालीसा पढ़ने से बहुत से चमत्कार होते है,एक सकारात्मक शक्ति हमारे मन के अंदर संचार करती है, जिससे आपका मन दिन भर तरोताजा रहता है, किसी भी तरह कि आरती हो या हनुमान चालीसा इसकी उत्पत्ति ऐसे शब्दों से होती है जिसको पढ़कर हमारे मन मे एक शक्ति उत्पन्न होती है जिससे हमें यह अनुभव होता है कि हमें हनुमान चालीसा पढ़ने से शक्ति मिलती है और आत्मा क़ो शांति मिलती है। हमारे घर मे नकरात्मक शक्तियों का वास होता है, तो हम हनुमान चालीसा जोर -जोर से पढ़ते है तो नकारात्मक चीजे हमारे घर से दूर हो जाती है और हमारे घर मे सकरात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है।

Letsdiskuss


1
0

| पोस्ट किया


जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारे हिंदू धर्म में हनुमान जी को संकट मोचन के नाम से जाना जाता है। लेकिन आज का सवाल है कि क्या आपने कभी हनुमान चालीसा पढ़ा है क्या इसको पढ़ने से कोई चमत्कार होता है ऐसा कभी आपने अनुभव किया है तो मैं आपको बताना चाहती हूं कि हनुमान चालीसा पढ़ने से हमारे अंदर एक सकारात्मक  शक्ति का संचार होता है हनुमान चालीसा को पढ़ने से हमारे मन में एक अलग ही प्रकार की शक्ति प्रकट हो जाती है। इसके अलावा जिस व्यक्ति को भूत प्रेत का साया होता है इससे छुटकारा पाने के लिए आप मंगलवार के दिन  हनुमान जी का चालीसा पढ़िए ऐसा करने से भूत प्रेत का साया दूर हो जाता है।Letsdiskuss


0
0

Picture of the author