क्या गोबर से सैंडल चप्पल बैग आदि बनाया जा सकता है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


English


Rinki Pandey

| पोस्ट किया |


क्या गोबर से सैंडल चप्पल बैग आदि बनाया जा सकता है?


0
0




| पोस्ट किया


क्या कभी आपने गोबर से बैग चप्पल आदि बनने की बात सुनी है? काऊ डंग यानी गोबर से आजकल बहुत सुंदर सुंदर बैग चप्पल पर्स  बनाए जाते जिसे लोग बहुत पसंद करते हैं। गोबर से यह सामान कैसे बनते हैं आइए जानें इसके बारे में।

Letsdiskuss

गोबर से बनी सैंडल इन दिनों मार्केट में धूम मचाए हुए हैं। online यह प्रोडक्ट मंगवाना चाहते हैं तो आनलाइन आसानी से मिल जाएगी।  गाय के गोबर से सैंडल चप्पल आदि बनाने की एक नई तकनीक है। हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं।

 

कैसे बनती है गोबर के चप्पल और बैग

 

गोबर के पाउडर में आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां और चूना आदि मिलाकर गरम ताप पर इसे सांचे में डालकर गोबर की चप्पल या बैग आसानी से बनाया जा सकता है।

तो हमारी संस्कृति में घर के फर्श को गोबर से लीपा जाता था, जो बैक्टीरिया और दूसरे कीड़े मकोड़ों से दूर रखता था। साथ ही चिकना और मजबूत होता था। वही सदियों पुरानी परंपरा का इस्तेमाल आज गोबर से सैंडिल, बैग, पेपर आदि बनाने में किया जाता है।


0
0

| पोस्ट किया


क्या आज तक आपने ऐसी बात सुनी है कि गोबर से यानी कि काऊ डंग से सैंडल, चप्पल, और कैरी बैग जैसी कई चीजें बनती है। नहीं सुना होगा? लेकिन छत्तीसगढ़ के रहने वाले रितेश अग्रवाल नाम एक व्यक्ति है जिसने गोबर से ऐसी कई चीजें बनाई है जिसे देखकर आप भी हैरान हो जाएंगे। इन्होंने गोबर से बैग, पर्स,चप्पल, सैंडल, मूर्तियां, पेंट, ईंट, दीपक, अबीर गुलाल ऐसी कई चीजें बनाई है। रितेश अग्रवाल जी ने बताया कि गोबर की सहायता से चप्पल,सैंडल बनाना बहुत ही आसान है। इन्होंने 1 किलो गोबर की सहायता से 10 चप्पल बनाई है। गोबर की चप्पल बनाने के लिए  रितेश अग्रवाल जी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां, और चूने का इस्तेमाल करते हैं।Letsdiskuss


0
0

Picture of the author